गज़ब अन्धविश्वास, हाथियों को भगाने मंत्री जी कर रहे हवन



हाल में दिल्ली के बुराड़ी इलाके में एक परिवार के सभी 11 सदस्य आत्महत्या कर लिए थे. बताया गया कि अंधविश्वास के तहत उन्होंने ऐसा किया था. अब एक मामला फिर सामने आया है. छत्तीसगढ़ में हाथियों के बढ़ते आतंक से परेशान जनता के लिए सरकार भारी भरकम हाथी को भगाने करोड़ों रूपए खर्च कर गजराज प्रोजेक्ट चला रही है. वहीं सरकार के एक मंत्री भैय्यालाल राजवाड़े अंधविश्वास के तहत पूजा पाठ हवन कर हाथी भागे की बात कर रहे हैं. 

हाथियों के बढ़ते आतंक पर लगाम लगाने मंत्री जी ने तंत्र-मंत्र का सहारा लिया है. इतना ही नहीं वह डंके की चोट पर कह रहे हैं हाथी भी गणेश भगवान ही हैं. हाथियों को भगवान की तरह ही पूजा जाता है. हवन-पूजन कर भी लिया तो इसमें गलत क्या है? इस प्रकार का हवन करते मंत्री जी का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है.

उनका कहना है पंडित जी आ गए बोले कि हवन करते हैं. हाथी भी गणेश भगवान है. भगवान की तरह ही हाथियों को पूजा जाता है, तो हवन करने में क्या बुरा है. प्रशासन तो लगा ही हुआ है रोकथाम करने के लिए. हाथियों के आतंक से बचने के लिए तमाम प्रयास चल रहे हैं. लेकिन वह भी इष्ट देवता है, हवन करने में क्या दिक्कत है. हमने कुछ गलत नहीं किया है. हाथियों के आतंक को कम करने के लिए हर तरीके अपनाना चाहिए. तंत्र-मंत्र में कौन सा खर्चा लगता है, कोई दिक्कत नहीं है ये सब करने में. कोई बुराई नहीं है. हवन-पूजा का असर होगा, तो होगा और नहीं होगा, तो नहीं होगा. हमने किसी का कुछ लूट लिया क्या? लोग बात का बतंगड़ बना रहे हैं. आखिर क्यों गणेश भगवान की ढोल मजीरा बजाकर पूजा की जाती है.

मामले पर नेता प्रतिपक्ष टी एस सिंहदेव ने कहा है कि बड़ी ही हास्यापद स्थिति प्रतीत होती है. नई पीढ़ी को आगे बढ़ाने की बात करने वाली बीजेपी की रूढ़िवादी सोच नजर आती है. आप यह सोचे की काम करने की बजाए इस प्रकार का आडंबर करेंगे, तो समाज को क्या संदेश देंगे. इस प्रकार की घटना दुखद, अपरिपक्व, हास्पादय है. एक मंत्री ऐसा करते दिखे, ये बड़ी अफसोस की बात है. 
देखिये वीडियो- 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc