अन्ततः हटाई गईं सलीना सिंह, वीएल कांताराव बने नए सीईओ


लंबे समय से लगातार विवादों में चल रही मध्य प्रदेश की मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सलीना सिंह को आखिरकार निर्वाचन आयोग ने पद से हटा दिया. मंगलवार शाम उन्हें पद से मुक्त करने के आदेश दिल्ली से जारी हो गए. सोमवार को ही चुनाव समीक्षा बैठक में हालांकि मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सलीना सिंह ने चुनाव सबंधी सारे काम अच्छे से किये जायेंगे, के लिए आश्वस्त किया था, लेकिन उनकी बात नहीं मानी गई और दिल्ली पहुँच कर जो समीक्षा रिपोर्ट दी गई उसके बाद उन्हें हटा दिया गया. अब मध्यप्रदेश में नए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी 1992 बैच के आईएएस अफसर वीएल कांताराव को बनाया गया है. आयोग ने नए सीईओ की पोस्टिंग के लिए राज्य सरकार से पैनल मांगा था. 

मध्य प्रदेश में पिछले काफी लंबे समय से चुनाव मतदान सूची में गड़बड़ी की शिकायतें मिल रही थीं. कोलारस और मुंगावली विधानसभा उपचुनाव के समय इस बात की पुष्टि भी हुई थी, जिसके बाद तत्कालीन कलेक्टर को पद से हटा दिया गया था. सलीना सिंह इस पूरे मामले में बेहद सख्त रवैया अपनाए हुई थी और उन्होंने लगातार चुनाव आयोग को इस बारे में पत्र भी लिखे थे कि कलेक्टर बिल्कुल सीरियस काम नहीं कर रहे हैं. कोलारस, मुंगावली उपचुनाव के समय सलीना सिंह का भाजपा के नेताओं से अच्छा खासा विवाद भी हुआ था. अपनी सख्त लेकिन पारदर्शी कार्यशैली के लिए प्रसिद्ध रही सलीना सिंह 26 जून को अपने इस पद पर कार्यकाल के 3 साल पूरे कर चुकी थीं. कांग्रेस भी पक्षपात का आरोप लगाते हुए उन्हें हटाने के लिए लगातार मांग कर रही थी. 

(डिजीटल न्यूज़ सर्विस नेटवर्क )
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc