गरीब रोगियों की चिकित्सा मुफ्त करने में हीला हवाली की तो निरस्त होगी लीज



''निजी अस्पतालों द्वारा यदि गरीब रोगियों की चिकित्सा मुफ्त में करने में हीला हवाली की जाती है तो ऐसी स्थिति में उनका लीज निरस्त किया जा सकता है. इस प्रकार के निर्देश सुप्रीम कोर्ट ने दिए हैं.'' 

सुप्रीम कोर्ट ने राजधानी दिल्ली में रियायती दर पर जमीन पाने वाले सभी निजी अस्पतालों को निश्चित संख्या में गरीब रोगियों की चिकित्सा मुफ्त में करने को कहा है. अस्पतालों को अत्यंत सस्ती दर पर दी गई जमीन के लीज डीड में भी पूर्व से गरीबों को चिकित्सा मुहैया कराना शामिल है.

निजी अस्पतालों के लिए सरकार द्वारा आवंटित जमीन पर 10 फीसदी इन पेशेंट विभाग (आइपीडी) और 25 फीसदी आउट पेशेंट विभाग (ओपीडी) में मुफ्त में चिकित्सा मुहैया कराना अनिवार्य है. जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि निजी अस्पतालों द्वारा यदि इस बात का विरोध किया जाता है या गरीब रोगियों की चिकित्सा मुफ्त में करने में हीला हवाली की जाती है तो ऐसी स्थिति में लीज निरस्त किया जा सकता है.

(डिजीटल न्यूज़ सर्विस नेटवर्क)

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc