बड़ा सवाल, एक गरीब महिला का बिजली बिल 76 हजार बकाया कैसे हो गया?




मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह ने आज बुधवार 5 जुलाई को एक ट्वीट कर जानकारी दी है कि उन्होंने एक महिला का 76 हजार रुपए का बकाया बिल माफ कर दिया. उनका कहना था कि ऐसा करके उन्हे काफी सुकून मिला, लेकिन सोशल मीडिया पर लोगों का कुछ अलग ही कहना है. बड़ा सवाल यह है कि एक गरीब महिला का बिजली बिल 76 हजार बकाया कैसे हो गया? आम लोगों का तो 2-3 हजार हो जाए या एक माह भी जमा न करें तो बिजली वाले बिजली काटने आ जाते हैं. 



ट्विट में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने लिखा है ''जब 76 हज़ार का बिजली का बिल माफ़ कर 200 रुपए प्रति माह की दर से बिजली देने की जानकारी बहन मीरा बाई को दी, तो उनके चेहरे पर जो प्रसन्नता और सुकून के भाव थे, यही मेरे उन प्रयासों के सुखद परिणाम हैं, जो मैं गरीब भाई-बहनों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए कर रहा हूं.'' 

उन्होंने लिखा है ''अब मेरे गरीब भाई-बहन बिजली के भारी-भरकम बिल से परेशान नहीं होंगे.'' उन्होंने बताया है जन कल्याण योजना (संबल) के तहत उन्हें 200 रुपए प्रति माह के फ़्लैट रेट से बिजली दी जाएगी. साथ ही उनके बकाए पुराने बिल माफ़ कर दिए हैं और कटिया मारकर बिजली के उपयोग के सभी केस भी वापस लिए जाएंगे.

अपने ट्विट के अंत में उन्होंने  लिखा है. अब लोग लिख रहे हैं. हैरानी बिल माफ करने की नहीं बल्कि....  में किसी गरीब परिवार का इतना बिजली का बिल आया कैसे ...?  लोग कह रहे हैं कि शिवराज सिंह अपने मतलबों के लिए चुनावी बेला में आम जनता की मेहनत की गाढ़ी कमाई लुटा कर अपना वोट बैंक बना रहे हैं. लोगों का कहना है कि अपनी सैलरी से दो तो कोई बात बने. 

कुछ प्रतिक्रियायें
Sanendra Solaki मुख्यमंत्री जी इमानदार उपभोक्ताओं का क्या, जो अपना और अपने बच्चों का पेट काटकर नियमित रूप से देश निर्माण में प्रदेश निर्माण में अपना योगदान देते है क्या उन लोगो का कुछ नही ऐसा ना हो एक दिन कोई भी ईमानदार उपभोक्ता ना बचे ये वोट बैंक की राजनीति बंद करे।और उन ईमानदार उपभोक्ताओं को भी कुछ लाभ देवे।

Shyambir Singh Rajawat देश का यही दुर्भाग्य है। मैंने देखा है। कि लोग खूब फल फूल रहे हैं। गाड़ी मोटरसाइकिल सब कुछ है। कोई कमी नहीं लेकिन बिजली का बिल कभी नहीं भरते। उन्हें अच्छी तरह से पता है। कि इस देश में निकम्मो का राज है। जब चुनाव आयगा हमारे बिल माफ हो जायेगे। इसलिए ये देश चीन से हजारों कोस पीछे रह गया। ईमानदार मरता रहे। और चोर उचक्के मजे करके ईमानदारो की हंसी उडाये।जागो जागो हिन्दुस्तान जागो हिन्दुस्तान जागो।



Jouranlist Dk Shivraj jee voto ke chakkar me hamari jeb par q dakaiti daal rahe ho.

Shivam Yadav Sir Mai Mobile Lena chahta hu mere pass paise nahi hai Aap mere Account Mai 10000 rupey transfer kar do please

यशवन्त सिंह राजपूत मैं छोटा सा किसान हूं और मेरा बिल माफ नहीं हुआ आज गरीब मुझसे ज्यादा अमीर है उनके माप हो रहे मैं किसान हूं कोई फायदा नहीं

कवीन्द्र प्रताप सिंह राजपूत आप जनता को बेकार कामचोर और बेईमान बनाने की कोशिश कर रहे हो ताकि वह सिर्फ सरकार की तरफ ही देखते रहे स्वच्छंद रूप से कुछ ना कर सके. जरा बिजली कर्मचारियों से पूछो कि एक गरीब किसान 3 हॉर्स पावर का कनेक्शन लगता है और उसको बिल 5 हार्सपावर कर दिया जाता है.

Rakesh Jain आपने सभी गरीबों के बिल माफ करके बहुत अच्छा काम किया पर जिन गरीब लोगों ने अपना पेट काटकर बिल भरा वह अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं काश हम भी बिजली विभाग के चोर होते तो आज हमारा पैसा इतना पैसा बचता आपकी योजना बहुत अच्छी है लेकिन जो रेगुलर बिल भरते हैं उनका भी कुछ सोचो नहीं तो फिर वह भी चोर हो जाएंगे की सरकार तो फिर माफ करेगी



Akshay Tanted  ने एक रियल घटना शेयर की है. उन्होंने बताया है पान की दुकान पर खडे एक 35 वर्षीय युवक से बातचीत के कुछ अंश.
मैनें पूछा कुछ कमाते धमाते क्यों नहीं...?
वह बोला :-- क्यो.?
मैं बोला :-- शादी कर लो ...?
वह बोला :-- हो गई .
मैं बोला :-- कैसे...??
वह बोला :-- मुख्यमंत्री कन्यादान योजना से...
मैं बोला :-- फिर बाल बच्चों के लिये कमाओ...?
वह बोला :-- जननी सुरक्षा से डिलेवरी फ्री और साथ मे 1400 रू का चेक...
मैने बोला :-- बच्चो की पढ़ाई लिखाई के लिये कमाओ..?
वह बोला :-- उनके लिये पढ़ाई,यूनिफार्म,किताबें और भोजन सब सरकार की तरफ़ से फ्री...!
साथ में लड़का MBBS कर रहा है,BPL होने की वजह से उसे स्कोलरशिप भी मिलती हैं उस से हम ऐश करते हैं।
मैं बोला :-- घर खरीदने के लिये तो कमाओ ?
वह बोला :-- 100 गज का मकान सरकार ने नाम करवा दिया।
मैने बोला :-- यार घर कैसे चलाते हो ?
वह बोला :-- छोटी लड़की को अभी सरकार से स्कूटी मिली हैं।
लड़के को लैपटॉप मिला है।मॉ-बाप को वृद्धावस्था पेन्शन मिलती है और 1 रूपये किलो गेहू और चावल,गैस चूल्हा सिलेंडर,पानी की टंकी ओर बहुत कुछ भी तो मिलता हैं ।
मैं झुझलाँ कर बोला यार माॅ-बाप को तीर्थयात्रा के लिये तो कमा ...??
वह बोला-दो धाम करवा दिये हैं मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा से...!
मुझे गुस्सा आया और मैंने बोला :--
माॅ बाप के मरने के बाद जलाने के लिये तो कमा..?
वह बोला :-- 1 रू में विद्युत शवदाह गृह हैं..!
मैंने कहा :-- अपने बच्चों की शादी के लिये तो कमा..?
वह मुस्कुराया और बोला :--
फिर वहीं आ गये... वैसे ही होगी जैसे मेरी हुई थी...!!
यार एक बात बता ये इतने अच्छे कपड़े तू कैसे पहनता हैं ?
वह बोला :-- राज की बात हैं..फिर भी मैं बता देता हूँ...
"सरकारी जमीन पर कब्जा करो आवास योजना मे लोन लो और फिर मकान बेच कर फिर जमीन कब्जा कर पट्टा ले लो...!!"
तुम जैसे लाखों लोग काम करके हमारे लिए टैक्स भर ही रहे हैं।फिर हम काम क्यों करें।
यह मैसेज सभी Group में भेजिए सरकार को पता चले कि हमारी मेहनत की कमाई कैसे लुटा कर लोगों को सरकार मक्कार बना रही हैं।
नोटा दबाओ देश बचाओ, ताकि सारी राजनीतिक पार्टियां समझ ले कि अगर उन्होंने जनता के टैक्स का सही उपयोग नहीं किया तो उन्हें वोट नही देंगे। मुफ्तखोरी बंद करो अगर दान देना ही है तो अपने पार्टी फन्ड से दो जनता के टैक्स से नहीं।

(डिजीटल न्यूज़ सर्विस नेटवर्क )


Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc