यह राजनीति है, किसी के एक बयान से उसके बारे में कोई राय मत बनाइये, पता नहीं कब आपको राय बदलना पड़ जाए



''यह राजनीति है. किसी के एक बयान से उसके बारे में कोई राय मत बनाइये. कब राजनीति बदलेगी, कब राय बदलना होगी, कुछ कहा नहीं जा सकता. पता नहीं कब आपको राय बदलना पड़ जाए.'' 

@रोशन नेमा   
कल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा दी गई इफ्तार पार्टी में कई विपक्षी दलों के नेता शामिल हुए, यहाँ तक कोई खबर नहीं है. लेकिन पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी एवं प्रतिभा पाटिल, पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने इफ्तार पार्टी में शामिल होकर राजनैतिक विश्लेषकों को चौंका दिया है. 

कांग्रेस ने दो साल बाद इफ्तार पार्टी का आयोजन किया. इस बार इफ्तार पार्टी राजधानी के आलीशान पंच-सितारा होटल ताज पैलेस में आयोजित की गयी. संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष एवं कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी इलाज के लिए विदेश में होने के कारण इफ्तार में शामिल नहीं हो सकीं. 

श्री मुखर्जी के पिछले दिनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के समारोह में जाने पर उन्हें इफ्तार पार्टी में नहीं बुलाये जाने की खबरें आईं थीं, हालांकि कांग्रेस ने इसका खंडन किया था. श्री मुखर्जी इफ्तार पार्टी में शामिल हुए और वह श्री गांधी के साथ बैठे हुए थे. दोनों के बीच बातचीत की कैमिस्ट्री भी अच्छी नजर आई. इसी के साथ प्रधानमन्त्री मोदी की तारीफ़ में कशीदे पढ़ चुकी पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल भी शामिल रहीं. कांग्रेस के विरुद्ध बयानबाजी के चर्चा में रहे पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी की उपस्थिति भी उल्लेखनीय रही. 

राहुल गांधी के पार्टी अध्यक्ष बनने के बाद उनकी यह पहली इफ्तार पार्टी थी. निश्चय ही पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी एवं प्रतिभा पाटिल, पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की उपस्थिति से उन्हें बल मिला है. 

इफ्तार पार्टी में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, जनता दल यू से अलग हुए श्री शरद यादव, बहुजन समाज पार्टी के महासचिव सतीशचंद्र मिश्रा, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के डी पी त्रिपाठी, तृणमूल कांग्रेस के नेता दिनेश त्रिवेदी, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी महासचिव सीताराम येचुरी और जनता दल (एस) महासचिव दानिश अली, राष्ट्रीय जनता दल के सांसद मनोज झा, द्रमुक की नेता एम. कणिमोझी, झारखंड मुक्ति मोर्चा नेता हेमंत सोरेन और ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के प्रमुख बदरुद्दीन अजमल आदि मौजूद थे।

राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, पूर्व मंत्री पी चिदम्बरम, ए के एंटनी, पृथ्वी राज चौहान, शशि थरुर और आनंद शर्मा, पार्टी सांसद अहमद पटेल, मोती लाल वोरा और जर्नादन द्विवेदी आदि कई वरिष्ठ कांग्रेसी नेता इफ्तार पार्टी में शामिल हुए. भारत में रुस के राजदूत निकोलेय आर कुदाशेव के अलावा कई अन्य देशों के राजनयिक भी इस अवसर पर उपस्थित थे. 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc