यूं ही खुला पड़े रहने देकर जैसे कह रहे हों 'आराम से खूब देख लो हमारा भ्रष्टाचार'



हम डरने या आगे भी भ्रष्टाचार करने से चूकने  वाले नहीं

जब बेस में गहराई और मजबूती ना हो तो कोई भी उखड़ सकता है. खम्बे लगाने में भ्रष्टाचार किया गया, अब वह खुल कर दिख रहा है. इसके बाबजूद भ्रष्टाचार करने वालों को ज़रा भी चिंता नहीं है. अब कम से कम इसे जल्दी हटा कर छिपाना तो था, लेकिन नहीं. हिम्मत को दाद देनी होगी कि इसे यूं ही खुला पड़े रहने देकर जैसे कह रहे हों 'आराम से खूब देख लो हमारा भ्रष्टाचार, हम डरने या आगे भी भ्रष्टाचार करने से चूकने  वाले नहीं.'

चित्र कानपुर उत्तरप्रदेश में चरों तरफ बिखरे पड़े विकास का है. नगर निगम मुख्यालय के सामने ट्रेफिक सिग्नल का खंबा गिर पड़ा तो उसे हटाने की जहमत उठाने को कोई तैयार नहीं था. 

@ संजय चतुर्वेदी    

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a comment

abc abc