'ऐसे कैसे जा सकते हो हड़ताल पर' उम्मीदों पर हाईकोर्ट ने पानी फेरा, आज से काम पर लौटेंगे तहसीलदार


'ऐसे कैसे जा सकते हो हड़ताल पर' यह बात एक बार पूर्व में मुख्य सचिव तहसीलदारों को कहे थे, तब तो तहसीलदार मां गए थे, लेकिन अब फिर हड़ताल पर चले गए. अब हाईकोर्ट ने यही बात कह कर हड़ताल से अपनी मांगें पूरी कराने की तहसीलदारों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है. 

मध्यप्रदेश हाईकोर्ट जबलपुर बेंच ने कहा है कि प्रदेश के तहसीलदार नायब तहसीलदारों के सामूहिक अवकाश पर जाने से न केवल आम जनता परेशान होगी, बल्कि क़ानून व्यवस्था भी प्रभावित होगी. इसलिए उन्हें इस प्रकार सामूहिक अवकाश या हड़ताल पर जाने का कोई अधिकार नहीं है. 

जस्टिस एसके गंगेले व सुबोध अभ्यंकर की अवकाशकालीन डिवीजन बेंच ने इस मत के साथ तहसीलदार नायब तहसीलदारों के 13 जून से लिए गए सामूहिक अवकाश पर रोक लगाते हुए उन्हें तत्काल काम पर लौटने के निर्देश दिए. इसी के साथ कोर्ट ने मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव को कहा है कि यदि तहसीलदार नायब तहसीलदार तत्काल आदेश का पालन करते हुए काम पर वापिस नहीं लौटते हैं तो सबंधितों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही करे. 


उल्लेखनीय है कि तहसीलदार हड़ताल को लेकर नरसिंहपुर जिले की गाडरबाड़ा तहसील के नारगी गाँव निवासी राजेश कुमार पटेल ने जनहित याचिका दायर की थी. 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc