सफलता की कहानियों के पीछे का दर्द


विशेष टिप्पणी     


''लोगों को इस बात से अब शिकायत होने लगी है या यूं कहें कि बोरियत हो 

गई है कि आखिर कब तक कांग्रेस का रोना रोते रहोगे?'' 

  @ संजय हिन्ना



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मध्यप्रदेश दौरे को आने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी के रूप में देखा जा रहा है. इंदौर नेहरु स्‍टेडियम में पीएम मोदी ने जनसभा को संबोधित करते हुए सफलता की कहानियां गिनाईं. साथ ही इसमें जनता की जीवटता, सहयोग की भावना और शहर के प्रति अपनापन जैसी बातें जोड़ कर लोगों को भावनात्मक ढंग से आकर्षित करने का प्रयास किया गया. 

स्‍वच्‍छता मिशन पर बात करते हुए पीएम ने कहा बीते चार वर्षों में देश में शहरों और गांवों को मिलाकर 8 करोड़ 30 हजार से ज्यादा शौचालयों का निर्माण किया गया है. मध्य प्रदेश में भी 65 लाख से ज्यादा शौचालय बने हैं. ये प्रयास एक बड़ी वजह है कि मध्यप्रदेश के सभी शहर खुद को खुले में शौच से मुक्‍त घोषित कर चुके हैं. हमेशा की तरह आज भी पीएम मोदी यहाँ भी कांग्रेस पर हमला करना नहीं भूले. उन्होंने एक बड़ी बात कही कि कांग्रेस के 20 साल का काम हमने 4 साल में कर दिया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के राज्‍य में मध्‍यप्रदेश एक पिछड़ा राज्‍य था. और आज जब हम काम कर रहे हैं तो कांग्रेस के लोग भ्रम, झूठ, निराशा फैला रहे हैं. उन्होंने कहा असल में वो जमीनी सच्‍चाई से कटे हैं. इस अवसर पर सीएम शिवराज ने मोदी को देश के लिए वरदान बताया. लेकिन पंडाल के पीछे बात कुछ अलग थी. 

लोगों को इस बात से अब शिकायत होने लगी है या यूं कहें कि बोरियत हो गई है कि आखिर कब तक कांग्रेस का रोना रोते रहोगे? स्टेडियम में ही लोग नोटबंदी/जीएसटी पर चर्चा कर रहे थे, कह रहे थे कि 'बीमारी लाइलाज हो चुकी थी, जो डॉक्टर ट्रीटमेंट कर रहे थे, वह बदल गए. उनकी जगह पर ये नए डॉक्टर आये. न पेशेंट को ठीक से देखा न बीमारी को समझा, न एनेस्थेशिया लगाया न ऑक्सिजन का कोई इंतजाम किया, न ही सम्बंधित उपकरणों पर ध्यान दिया. बस चीड़-फाड़ कर डाली. अब जो प्रोब्लम्बस आ रही हैं, वह इसी सब का नतीजा है. सो क्या करें कांग्रेस को ही रटते रहें.'
(डिजीटल न्यूज़ सर्विस नेटवर्क)  



Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc