विकास यात्रा में विरोध किया तो बीजेपी सांसद ने ग्रामीणों को मंच से 'सांड' कह डाला





...और अब कह रहे हैं चुनाव तो मैं ही लडूंगा, 
तो क्या विधानसभा चुनाव जीत पाएंगे सांसद कुलस्ते?





@विनोद सोनी    

''विकास यात्रा में विकास के मुद्दे पर ग्रामीणों ने जब सांसद और भाजपा के खिलाफ नारे लगाए तो बोखलाये सांसद ने ग्रामीणों को मंच से सांड की उपाधि दे डाली. और अब कह रहे हैं चुनाव तो मैं ही लडूंगा. तो क्या विधानसभा चुनाव जीत पाएंगे सांसद कुलस्ते?''
देखें वीडियो- 




सिवनी में पिछले दिनों पूर्व केन्द्रीय मंत्री फग्गनसिंह कुलस्ते द्वारा विधान सभा चुनाव लड़ने की इक्छा जाहिर करने के बाद से  यह अनुमान लगाया जा रहा है कि  वे विधानसभा लखनादौन से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे है. वहीं सिवनी से निर्दलीय विधायक दिनेश राय मुनमुन के भाजपा में जाने के बाद लखनादौन सीट को बल मिला है, क्योकि लखनादौन क्षेत्र के लोगों की मात्र एक पसंद मुनमुन राय है और लखनादौन के लोगों के दिल में दिनेश राय की खास जगह है. 

दिनेश राय मुनमुन और उनकी माता जी पूर्व में नगर पंचायत लखनादौन की अध्यक्ष रह चुकी हैं और वर्तमान में उनके भाई नगर पंचायत के अध्यक्ष हैं. वहीं पूर्व राज्यपाल  स्वर्गीय उर्मिला सिंह के पुत्र लखनादौन विधानसभा सीट पर कांग्रेस से योगेंद्र सिंह बाबा विधायक हैं. 

वही अनुमान इस बात से भी लगाया जा रहा है कि भाजपा ने जनकल्याणकारी योजनाओं को लेकर विकास यात्रा निकाली और जगह-जगह भाजपा के नेता विकास यात्राओं में शामिल होकर पार्टी और सरकार का बखान करते नजर आए, वही पूर्व केंद्रीय मंत्री और मंडला सिवनी से सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते लखनादौन विधानसभा क्षेत्र के घंसौर कहानी धनोरा और लखनादौन तहसील क्षेत्र में विकास यात्रा में शामिल हुए, लेकिन उनको क्षेत्र की जनता के विरोध का सामना करना पड़ा. जहा कुलस्ते भाजपा की विकास यात्रा में विकास की बात/मांग पर बचते नज़र आये. कैसे भागते नजर आये भाजपा सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते देखें वीडियो-

बच कर भागते नजर आये भाजपा सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते



विकास यात्रा के दौरान घंसौर ब्लॉक के खमरिया ईश्वरपुर गांव में जब कार्यक्रम स्थल के गेट पर ही ग्रामीणों ने विकास यात्रा को रोक लिया. जहाँ विकास यात्रा की अगबाही कर रहे केंद्र के पूर्व मंत्री और सिवनी मंडला के सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते जब भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ कार्यक्रम स्थल के गेट पर ही आसपास के ग्रामीण रोड निर्माण की मांग पानी की मांग और उन समस्याओं को लेकर विकास यात्रा के काफिलों को रोक लिया और सांसद से जवाब तलब करने लगे. जनता के सवालों के तीर को देखते हुए धीरे-धीरे भाजपा के कार्यकर्ता जनता के सवालों से बचते दूर होने लगे जब सांसद अपने आप को अकेला पाया तो कार्यक्रम स्थल पर मोजूद ग्रामीणो के सवालों और विरोधी नारेबाजी से बचते और भागते नजर आए. 

यहाँ ग्रामीणो ने सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते पर आरोप भी लगा डाले कि सांसद द्वारा कार्यक्रम स्थल पर मौजूद महिलाओं को धक्का-मुक्की करते हुए उनकी बात अनसुनी करते हुये कार्यक्रम स्थल से चले गए. देखें वीडियो- 


अब सवाल यह खड़ा होता है कि भाजपा सरकार की विकास यात्रा आखिर किन विकास कार्यो को लेकर निकाली गई. अगर सरकार ने जनप्रतिनिधियों के द्वारा क्षेत्र में विकास किया है, तो जनता किस बात के लिए नारेबाजी और सरकार के प्रतिनिधियों पर भड़ास निकाल रही है?  आखिरकार जनता जनप्रतिनिधियों के किन बातों के मुकरने की बात कर रही है. यह एक बड़ा सवाल है. बहरहाल भाजपा की विकास यात्रा पर और क्षेत्र के सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते पर ग्रामीणो ने सवालिया निशान जरूर खड़े कर दिए हैं. साथ ही भाजापा के लिए पुन: लखनादौन विधानसभा सीट भी खतरे में नजर आ रही है और वही जनता का सवाल है कि सांसद और केंद्रीय मंत्री रहते हुए इन्होंने कोई सौगात क्षेत्र को नही दी, तो जनता किस आधार पर इनको वोट देगी? 



बात सांसद के बेतुके बोल की   
भाजपा की विकास यात्रा और विकास के मुद्दे पर ग्रामीणों ने जब सांसद और भाजपा के खिलाफ नारे लगाए तो दूसरे दिन बोखलाये सांसद ने ग्रामीणों को मंच से सांड की उपाधि दे डाली. 

मोदी सरकार के पूर्व केंद्रीय मंत्री वर्तमान मंडला सिवनी के सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते को विकास यात्रा के दौरान ग्रामीणों ने विकास के मुद्दे पर घेरा और पिछले वादों व आश्वासन पर काम ना होने पर खरी खोटी सुनाई. इतना ही नहीं सांसद और भाजपा के खिलाफ नारेबाजी भी हुई, जहाँ सांसद और भाजपा के खिलाफ 'फग्गन सिंह कुलस्ते मुर्दावाद' और 'रोड नहीं तो वोट नहीं' के नारे भी लगाए गए. ठीक दूसरे ही दिन बौखलाए सांसद ने इन ग्रामीणों को सांड से तुलना करके ग्रामीणों का अपमान कर डाला. 

बात जनता के मत की    
क्षेत्र की आवाम अब कहने लगी है कि जहां क्षेत्र में विकास का नामोनिशान नहीं है और लोग महंगाई और बेरोजगारी से त्रस्त हैं. क्षेत्र की जनता काम के अभाव में पलायन करने को मजबूर है. ऐसे हालातों में क्या क्षेत्र की जनता इन्हें आने वाले चुनाव में अपना मत देगी. 

बात भी सही है, क्योंकि मोदी सरकार के मंत्रिमंडल में सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते को केंद्रीय राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया था. लेकिन कुछ महीनों के बाद ही मोदी सरकार के मंत्रिमंडल से इन्हें निकाल दिया गया. जब मोदी सरकार ने ही फग्गन सिंह कुलस्ते के कार्यों को नहीं सराहा और कुलस्ते मोदी के कार्यों में खरे नहीं उतर पाये तो उन्हें मंत्री पद से हाथ धोना पड़ा. जब एक तरफ स्वयं भाजपा आलाकमान सांसद कुलस्ते के कार्यों से असंतुष्ट होते हुए मंत्री पद छीन लेता है तो फिर जनता सांसद के कार्यों से कैसे संतुष्ट होगी और आने वाले विधानसभा चुनाव में यदि फग्गन सिंह कुलस्ते लखनादौन विधानसभा से विधानसभा चुनाव लड़ते हैं तो क्या जनता उन्हें अपना मत देगी. देखें वीडियो- 


ईश्वरपुर के ग्रामीण नारेबाजी करते हुए 



Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc