शिवराज 'अंगद' और कमलनाथ 'रावण', वायरल वीडियो की जड़ में हैं बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह


बीजेपी ने बताया 'दलित आदिवासी और पिछड़ा वर्ग की अभिव्यक्ति' तो कांग्रेस ने कहा 'हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं से खेल रही है बीजेपी'




''कहा जा रहा है अमित शाह के भाषण, जिसमें उन्होंने शिवराज को 'अंगद के पैर' की तरह जमे रहना बताया था, से प्रेरित होकर भाजपा कार्यकर्ताओं ने यह वीडियो बनाया और वायरल किया. कांग्रेस की ओर से कहा गया है कि भाजपा के सोशल मीडिया सेल के प्रभारी शिवराज सिंह डाबी ने वीडियो अपलोड किया है. लेकिन बीजेपी ने इसकी जिम्मेदारी नहीं ली है. कांग्रेस ने सायबर सेल में शिकायत कर दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है.'' 

डिजिटल इंडिया18 ऑनलाइन 
मध्यप्रदेश में एक वीडियो ने राजनैतिक भूचाल ला दिया है. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में अंगद के अवतार में शिवराज और रावण के किरदार में कमलनाथ को बताया गया है. वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मंगलवार को सियासी घमासान मच गया. वीडियो में नाथ के अलावा ज्योतिरादित्य सिंधिया, जीतू पटवारी और अरुण यादव को हास्यास्पद रूप में अंगद रूप में किरदार शिवराज सिंह चौहान के पैरों में गिरते हुए दिखाया गया है. वीडियो रामानंद सागर के चर्चित सीरियल 'रामायण' के एक भाग को एडिट कर बनाया गया है. वीडियो में शिवराज पैर जमाकर खड़े दिखाई दे रहे हैं, तो वहीं कमलनाथ सहित कांग्रेस के कई नेता उनके पैर को हिला नहीं पाते हैं, दिखाया गया है. 

वायरल हो रहे वीडियो पर कांग्रेस का कहना है कि इस प्रकार के वीडियो को सामने लाकर बीजेपी ने अपनी सोच, अपनी बुद्धि का परिचय दे दिया है. कांग्रेस ने कहा है 'इस पूरे चित्रण के समय सत्ता में रावण था और वनवास पर श्री राम. वर्तमान दौर में कौन सत्ता में है और कौन वनवास में ये बताने की ज़रूरत नहीं है, हालाँकि वनवास के चौदह साल पूर्ण हो चुके हैं और अब बारी है वास्तविक राम राज्य के आने की.'  

वीडियो किसने बनाया और सोशल मीडिया पर वायरल किया, इसे लेकर बहस छिड़ी हुई है. कांग्रेस की ओर से कहा जा रहा है अमित शाह के भाषण, जिसमें उन्होंने शिवराज को 'अंगद के पैर' की तरह जमे रहना बताया था, से प्रेरित होकर भाजपा कार्यकर्ताओं ने यह वीडियो बनाया और वायरल किया. कांग्रेस की ओर से कहा गया है कि भाजपा के सोशल मीडिया सेल के प्रभारी शिवराज सिंह डाबी ने वीडियो अपलोड किया है. लेकिन बीजेपी ने इसकी जिम्मेदारी नहीं ली है. 

देखिये वीडियो -

बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने इसे कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के मुख्यमंत्री शिवराज को नालायक दोस्त बताने के बयान के बाद की, दलित आदिवासी और पिछड़ा वर्ग की अभिव्यक्ति बताया है. वहीं कांग्रेस ने इसे पवित्र हिन्दू ग्रन्थ रामायण, भगवान राम और हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं से खेलना बताते हुए सायबर सेल में शिकायत कर दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है.




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc