कृष्ण की नगरी में राधाओं पर अंकुश के लिए फरमान, गायब है 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' का नारा..?

  Image may contain: 1 person, smiling, closeup



आप हर रोज़ आपराधिक घटनाओं के बारे में सुनते ही होंगे. इन घटनाओं पर रोक लगाने के लिए सरकार की तरफ से हर मुमकिन कदम उठाया जा रहा है, लेकिन उत्तर प्रदेश के मथुरा में गोवर्धन क्षेत्र के गांव मडोरा में अपराध पर लगाम लगाने के लिए एक अनोखी सजा सुनाई गई है. 

भगवान् कृष्ण की नगरी, जहाँ कृष्ण से पहले राधा नाम लिया जाता है, वहां अब आज की राधाओं को अभिव्यक्ति की आजादी नहीं रह गई है. यहाँ गांव वालों की तरफ से एक पंचायत करके उसमें एक शर्मनाक फरमान जारी किया गया है. फरमान में कहा गया है कि अगर कोई लड़की फोन पर बात करती हुई मिलती है, तो उसके ऊपर 21 हजार रूपये का जुर्माना लगाया जाएगा. 

उल्लेखनीय है बेटियों को यह फरमान उस इलाके में सुनाया गया है, जहाँ श्री कृष्ण पैदा हुए थे और जहाँ कृष्ण से पहले राधा नाम लिया जाता है.

मामले पर सोशल मीडिया पर Akash Nagar जी की पोस्ट पर तीखी प्रतिक्रियायें आ रही हैं-

Shashi Singh ने लिखा है 'शर्म आनी चाहिये यह फरमान सुनाने वालों को. एक तरह से लड़कियों को और भी ज्यादा निसहाय, कमजोर बना रहे हैं.'   

Prerna Garg  ने लिखा है 'हद्द हो गयी. मोबाइल से तो हमला होने की स्थिति में लड़कियाँ अपने घरवालों/ पुलिस को सूचित कर सकती हैं, लेकिन नहीं. अब वे ऐसा नहीं कर सकेंगी.' 

Anuradha Singh लिखती हैं कि 'लड़कियों को एकजुट होकर इसके खिलाफ सड़कों पर आना चाहिए और इस तरह के फरमान सुनाने वालों को जेल भिजवाना चाहिए. लड़कियां भी इंसान हैं, किसी की बपौती नहीं, जो उन पर अपने कुछ भी फैसले थोपे जाएँ.

Sunita Pandey  लिखती हैं 'लड़कियों के बारे में फैसला सुनाने वाले अगर कुछ तुच्छ मानसिकता वाले आदमियों का समूह है, तो ऐसे लोगों को इग्नोर करिये इनके बारे में बहस करके इन्हें क्यों बढ़ावा दिया जाये, क्योकि ये वही लोगहैं, जो समय आने पर स्त्री की आबरु से खेलते हैं. हमारे सनातन धर्म में इंसान को बराबर का अधिकार है. मौलवियों का प्रभाव. 




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc