विधायक कटारे को निकाल ले गए सिंधिया, राजनीतिक केरियर खराब करने रची गई थी साजिश




पलट गई छात्रा, कहा हेमंत ने नहीं किया मेरा बलात्कार 
जेल में मुझे निर्वस्त्र कर कराई गई मसाज

''आखिरकार ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने चहेते विधायक हेमंत कटारे को बचा ले गए. पूर्व में उन्होंने विधायक कटारे को निर्दोष बताया था और कहा था वह साफ़ निकलेंगे. वही हुआ हेमंत कटारे पर पिछले तीन माह पूर्व बलात्कार के आरोप लगाकर सनसनी फैलाने वाली युवती (जर्नलिज्म छात्रा) ने साफ़ कहा है कि विधायक हेमंत कटारे ने मेरा शारीरिक शोषण नहीं किया। पूरा मामला राजनीति से प्रेरित है। कटारे का राजनीतिक केरियर खराब करने के लिए यह पूरी साजिश रची गई थी। मेरा राजनीतिक इस्तेमाल किया गया और इस पूरे खेल के पीछे बीजेपी नेता अरविंद भदौरिया का हाथ है।''

भिंड की अटेर विधानसभा से कांग्रेस के टिकट पर उपचुनाव जीतकर युवा विधायक बने हेमंत कटारे पर पिछले तीन माह पूर्व बलात्कार के आरोप लगाकर सनसनी फैलाने वाली युवती (जर्नलिज्म छात्रा) ने अब एक नया खुलासा करके सनसनी फैला दी है। अपने पुराने आरोपों से ठीक विपरीत पलटते हुए युवती ने कहा कि वो तीन महीने से लगातार झूठ बोल रही थी। उसने SIT को भी झूठ बोला, युवती ने कहा विधायक हेमंत कटारे ने मेरा शारीरिक शोषण नहीं किया।

कटारे का राजनीतिक केरियर खराब करने रची गई थी पूरी साजिश 
यह पूरा मामला राजनीति से प्रेरित है। कटारे का राजनीतिक केरियर खराब करने के लिए यह पूरी साजिश रची गई थी। मेरा राजनीतिक इस्तेमाल किया गया और इस पूरे खेल के पीछे अरविंद भदौरिया का हाथ है। युवती ने अपने बयान से पलटते हुए कई सनसनीखेज हैरान करने वाले खुलासे किये हैं। युवती ने कहा में तीन महीने से लगातार झूठ बोल रही थी, लेकिन अब में सिर्फ सच बोलूंगी। मुझे विक्रम अपने वकील और विशाल खत्री जेल में मिलने आये थे, विक्रम मामले में सह आरोपी था, 27 तारीख को विक्रम मुझसे जेल में मिलने आया था विक्रम, वकील और एक पत्रकार ने मिलकर मुझे झूठे आरोप लगाने को कहा था। युवती ने बताया कि मुझे कहा गया कि हेमंत के सारे दुश्मन एक हो गए हैं।

जेल में मुझसे करवाई गई मसाज
ज़मानत पर रिहा, आरोपी और पीड़ित युवती ने कहा मेरी जिंदगी खराब हो गई है। मेरे साथ जेल में भी अमानवीय व्यवहार किया गया। मुझे जेल में निर्वस्त्र किया गया, मुझसे मसाज करवाई गई। युवती ने साफ़ किया कि विधायक हेमंत ने उसका शारीरिक शोषण नहीं किया बल्कि जेल में मेरा शारीरिक शोषण किया गया।

साजिश में बीजेपी नेता भदौरिया का हाथ
युवती ने कहा कि मुझे चीफ जस्टिस को पत्र लिखने के लिए मजबूर किया गया, पत्राचार के बाद अदालत बदल गई । मेरा राजनैतिक उपयोग किया गया। मेरे पास AC (वातानुकूलित) रेल टिकट्स आती गई, मुझे लक्ज़री इंनोवा कार भी भेजी गई। युवती ने आरोप लगाए हैं कि इस पूरे खेल में भदौरिया का हाथ है।

मेरा नार्को टेस्ट करवा लीजिये में सच बोल रही हूँ
सूत्रों से ये भी जानकारी मिल रही है कि इस मामले में युवती और विधायक का बड़े राजनीतिक (दिल्ली) हस्तक्षेप के बाद गुप्त (बड़े रकम के लेनदेन के बाद) समझौता हो गया है । और युवती की और से पैरवी कर रहे वकीलों ने भी खुदको इस केस से बाहर कर लिया है। साथ ही युवती ने भी कॉउंसिल चेंज करने का आवेदन भी दे दिया है। ज्ञात रहे इस मामले (बलात्कार,अपहरण) से राहत पाने के लिए विधायक कटारे ने हाई कोर्ट में याचिकाएं दायर कर रखी हैं, जिनपर आज 3 मई को अंतिम बेहस और सुनवाई होनी थी ,लेकिन विधायक के वकील की और से कोर्ट से समय मांगा गया जिसके बाद कोर्ट ने इस मामले को आखिरी में सुनने को कहा , और खबर लिखे जाने तक कोर्ट में इस मामले पर सुनवाई नही हो सकी थी। सूत्रों ने ये भी बताया कि इस मामले में पुलिस (SIT) कोर्ट से पीड़िता का नार्को टेस्ट कराने की मांग कर सकती है।

हेमंत पर लगाये रेप और अपहरण का मामला वो वापस लेंगी
बहर हाल यदि वाक़ई में कोर्ट के सामने ये आरोप निराधार साबित हो गए बकौल आज के घटनाक्रम के बाद तो कम से कम एक युवा विधायक (जनप्रीतिनिधि) का भविष्य खराब होने से बच जाएगा। लेकिन इस मामले में जिस तरह मोड़ आये हैं उस से सभ्य समाज ये सोचने पर मजबूर है कि आखिर किसी वयस्क महिला का कोई राजनीतिक इस्तमाल कर किसी का भविष्य भी खराब कर सकता है। साथ ही इन मामलों में महिलाओं का पलट जाना पुलिस और न्याय व्यवस्था के लिए भी चुनोती साबित हो रहा है। क्योंकि बढ़ते महिला अपराधों के प्रति न केवल सरकार बल्कि अदालतें भी काफी संजीदगी पहले से ज़्यादा दिखाने लगी हैं। और दिन पे दिन महिला कानून लगातार सख्त हो रहा है ,लेकिन यदि इसी तरह कानून का दुरुपयोग होने लगेगा तो दुर्भाग्यवश जो असली पीड़ित हैं, क्या उनको न्याय मिल पायेगा, ये एक बड़ा सवाल है हम सबके लिए। युवती ने यह भी कहा कि हेमंत पर लगाये रेप और अपहरण का मामला वो वापस लेगी
। साथ ही इस पूरे घटनाक्रम से अब बीजेपी नेता अरविंद भदौरिया की मुश्किलें बढ़ती नज़र आने लगी हैं। जानकारी मिल रही है कि अरविंद भदौरिया अब इन आरोपों के खिलाफ न्यायालय जा सकते हैं।

केसरिया न्यूज़ ने बीजेपी नेता भदौरिया एवं कांग्रेस विधायक  से फ़ोन पर सम्पर्क करने का प्रयास किया उनका पक्ष जानने के लिए लेकिन दोनों से ही संपर्क स्थापित नही हो सका। विधायक कटारे मामले (याचिकाओं) की सुनवाई अब 7 मई को होगी।

न्यूज़ केसरिया खबर से 
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc