कलेक्टर के आदेश से किसान आक्रोशित, तुगलकी फरमान बढ़ा रहे हैं किसानों की परेशानियां -शिवकुमार शर्मा


  


''ग्वालियर कलेक्टर राहुल जैन को पशुओं के प्रति करुणा दिखाना भारी पड़ता दिखाई दे रहा है. कलेक्टर श्री जैन के पशुओं को बैलगाड़ी, भैंसा गाड़ी आदि में जोतने अथवा उनकी पीठ पर सामान ढोने पर रोक लगाने के फरमान का तुगलकी बताते हुए किसान संगठनों ने बिरोध किया है.'' 


भारतीय किसान संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा ने कहा है कि इस तरह का आदेश निकालने का कलेक्टर को कोई अधिकार ही नहीं है. उन्होंने कहा है कि ऐसे तुगलकी फरमान किसानों की परेशानियां बढ़ा रहे हैं. उन्होंने कहा है किसानों को गर्मी में धूप में जाने का शौक नहीं है. किसानों का सरकार ने मजाक बना दिया है. वहीं किसान नेता अनिल यादव ने कहा है कि मध्यप्रदेश में किसानों की सरकार होने का केवल ढ़िढ़ोड़ा पीटा जा रहा है, हकीकत यह है कि हर फैसला किसान बिरोधी हो रहा है.  

भारतीय किसान संघ के प्रदेश अध्यक्ष रामभरोसे बासोतिया ने कहा है मशीनों ने किसान का मुनाफा छीन लिया है. देश में अनादिकाल से बैलों से खेती हो रही है.एक ओर खेती किसानी में गौवंश को बढ़ावा देने की बात की जाती है, दुसरी ओर इस तरह के गलत आदेश निकाले जा रहे हैं. उन्होंने यह भी कहा कि किसान पशुओं को ह्त्या के लिए नहीं पालता, वह उन्हें बच्चों की तरह पालता है. 

मध्यप्रदेश किसान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुर्जर ने कहा है जो छोटे किसान गर्मियों में सब्जियों की फसल लेते हैं और बैलगाड़ी से बेंचने ले जाते हैं, वह परेशान होंगे. उन्होंने कहा बीजेपी की सरकार किसानों को मारने पर तुली हुई है. 

उल्लेखनीय है कि हाल ही ग्वालियर कलेक्टर राहुल जैन ने पशु क्रूरता निवारण अधिनियम की धारा 6 का हवाला देते हुए यह आदेश जारी किया है. उन्होंने अपने आदेश में लिखा है कि ग्वालियर जिले में दोपहर में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक रहता है. इस दौरान पशुओं को वाहन में जोतने अथवा उनकी पीठ पर भार ढोने से उनकी मौत हो सकती है. ऐसे में पूरे जिले में दोपहर 12 से शाम 4 बजे तक पशुओं का उपयोग वाहनों में जोतने व सामान ढोने से प्रतिबंधित किया जाता है.

यह है आदेश    








Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc