समय बर्बाद करने के लिए याचिका कर्ता पर हाईकोर्ट ने लगाया एक लाख का जुर्माना


''समय बर्बाद करने वाला मानते हुए याचिका कर्ता पर इंदौर हाईकोर्ट ने 

एक लाख का जुर्माना लगाया  है.'' 

मामला इंदौर कलेक्टर निशांत वरवड़े को अयोग्य घोषित किए जाने की याचिका का है. इंदौर कलेक्टर  को कार्य के प्रति लापरवाही के आरोप लगाकर इंदौर की याचिका कर्ता नंदी बाई  द्वारा सीनियर एडवोकेट मनोहर दलाल के माध्यम से कलेक्टर पद से अयोग्य घोषित करने के लिए इंदौर हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई थी. 

याचिका पर सुनवाई  करते हुए हाई कोर्ट ने याचिका को न सिर्फ खारिज किया है बल्कि उक्त याचिका को कोर्ट का समय  बर्बाद करने  वाला भी माना है. बेवजह याचिका दायर करने को लेकर कोर्ट ने याचिका कर्ता पर एक लाख का जुर्माना भी लगाया है. हाई कोर्ट ने कहा है कि याचिका कर्ता द्वारा अगर उक्त राशि जमा नहीं की जाये तो उक्त राशि की वसूली राजस्व वसूली की तरह की जाये. निर्णय न्यायमूर्ति एस सी शर्मा द्वारा दिया गया है.


Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc