खतरे में योगी की जान, उन्हीं के वेश में UP में घुसे आतंकी, MP इंटेलिजेंस की रिपोर्ट

Image result for खतरे में योगी की जान

उत्तर प्रदेश इन दिनों आतंकियों की हिट लिस्ट में है। देश की सभी सुरक्षा एजेंसियों को अलर्ट पर रखा गया है। सूचना मिली है कि UP में बड़ा आतंकी हमला हो सकता है। UP में किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने के लिए आतंकी संगठनों ने भगवा चोले को ढाल बनाया है।

UP में बड़ा आंतकी हमला हो सकता है. UP में आतंकी मुख्यमंत्री योगी के ही वेश में घुसे हैं. 

आतंकवादी संगठनों ने किशोर उम्र के आतंकियों को साधु और तांत्रिक के वेश में प्रशिक्षित कर UP में उतार दिया है। यह लोग प्रमुख धार्मिक स्थलों के अलावा प्रतिष्ठित संस्थानों को भी निशाना बनाने की तैयारी में हैं।

MP पुलिस की इंटेलिजेंस यूनिट से जानकारी मिलने के बाद UP की सुरक्षा शाखा ने सभी जोन के आईजी, रेंज के डीआईजी, जिलों के कप्तान व एएसपी रेलवे को अलर्ट कर दिया है। इसके अलावा शुक्रवार की रात से खुफिया एजेंसियों को भी चौकन्ना कर दिया गया है।

MP इंटेलिजेंस से मिले इनपुट के मुताबिक, आतंकी वारदात के लिए UP में भेजे गए युवा 17-18 साल के हैं। इन लोगों को हिंदू धर्म के रीति-रिवाजों की ट्रेनिंग दी गई है। यह लोग साधु संतों व तांत्रिकों के वेश में रहते हैं। इसी साल फरवरी में 20-25 युवाओं को आतंकी संगठनों ने भारत-नेपाल बॉर्डर से UP में भेज दिया है। UP में घुसने के बाद इन लोगों ने हिंदू बहुल शहरों में हिंदू बस्तियों में ठिकाना बना लिया है।

पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई ने हिंदू रीति रिवाजों का प्रशिक्षण देकर एजेंटों को हिंदू आबादी में प्रवेश करवाने के लिए ऑपरेशन कृष्णा इंडिया शुरू किया था। इन एजेंटों को भी उसी का हिस्सा माना जा रहा है। आईएसआई की योजना इन एजेंटों को साधु वेश् में धार्मिक स्थलों में स्थापित करने की है, ताकि वह अपना काम आसानी से कर सकें। उसके बाद यह लोग धार्मिक विद्वेष फैलाने के साथ ही किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की रणनीति बना सकते हैं।

इसके बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा और बढ़ाने का फैसला लिया गया है. सूत्रों के मुताबिक उनकी सुरक्षा में राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) की त्वरित प्रतिक्रिया टीम (QRT) टीम भी तैनात होगी.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को फिलहाल ज़ेड प्लस (Z+) सुरक्षा देते हुए इससे NSG के 35 कमांडो दिए गए थे. ये कमांडो सीएम योगी को मोबाइल सुरक्षा प्रदान कर रहे हैं. इस मोबाइल सुरक्षा में एक वक्त NSG के 7 कमांडो तैनात रहते हैं. हालांकि अब इन कमांडोज़ के अलावा QRT टीम भी योगी की हिफाजत में तैनात रहेगी.

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc