'छोटा बच्चा जान के..' अब वो राहुल नहीं, गुट विशेष को चुनाव तक साधने आगे लाये गए कमलनाथ, समय पर सौंपेंगे जनता की पसंद ज्योतिरादित्य को प्रदेश



Image result for परिपक्व राहुल


''कांग्रेस के राहुल अब वो 'छोटा बच्चा जान के हम को न बहलाना रे..'  वाले राहुल नहीं रहे, जैसा कि प्रचारित किया गया. सूत्रों के अनुसार कमलनाथ केवल कांग्रेस में एक गुट विशेष को चुनाव तक साधने के लिए आगे लाये गए हैं, असल में राहुल जनता की पसंद ज्योतिरादित्य को प्रदेश की कमान मुख्यमंत्री के रूप में देने का निर्णय ले चुके हैं. इसकी घोषणा समय पर की जायेगी. यह बात सभी जान भी रहे हैं, लेकिन कर भी क्या सकते हैं. क्योंकि राहुल, अब वो राहुल नहीं रहे, जिसे छोटा बच्चा जान के.. बहलाया जा सके.''
सीधी बात : बलभद्र मिश्रा 

कमलनाथ को कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष घोषित करने पर खबर है कि सीएम शिवराज खुश हैं. उन्होंने खुशी का इजहार ट्वीटर पर कमलनाथ को बधाई देकर भी किया है. सीएम शिवराज की खुशी के पीछे बजह है कि वे कांग्रेस में गुटबाजी चाहते थे, और अब उन्हें लगता है कि कांग्रेस के इस निर्णय से कांग्रेस में गुटबाजी हो गई है, जिससे कि उनका रास्ता साफ हो गया है. यह अत्यंत दु:खद है और सीएम शिवराज को आत्म-मंथन भी करना चाहिए कि आज इतने लम्बे समय से सत्ता में रह कर वह दुसरे की लाइन काट कर अपनी लाइन बड़ी बताने की कोशिश कर रहे हैं. बात तो तब होती जब वे कहते सामने कोई भी हो, हम अपने काम के दम पर मैदान में होंगे और सत्ता में लौटेंगे.  

Related image
ज्योतिरादित्य के ही हाथों में होगी प्रदेश की कमान
सीएम शिवराज सिंह समेत पूरी भाजपा यह मान चुकी थी कि ज्योतिरादित्य सिंधिया सीएम कैंडिडेट होंगे. सीएम शिवराज और भाजपा की चिंता केवल ज्योतिरादित्य सिंधिया थे, क्योंकि आज मध्यप्रदेश की जनता उम्मीद की नजर से केवल सिंधिया की ओर देख रही है. और 'अगली सरकार सिधिया सरकार' की आबाज उठा रही है.

जबकि भाजपा मध्यप्रदेश में एक बार फिर शिवराज सिंह पर दांव खेल रही है. माना जा रहा है कि भाषण कला में शिवराज का कोई मुकाबला नहीं. श्रोताओं को मतदाताओं में बदलने का हुनर शिवराज को बेहतर तरीके से आता है, लेकिन यह नहीं भूलना चाहिये कि प्रदेश की जनता शिवराज को मुख्यमंत्री कम, घोषणावीर ज्यादा मान रही है. और नारा लगा रही है 'मामा तेरी खैर नहीं, मोदी जी से बैर नहीं' 

उल्लेखनीय यह है कि कांग्रेस के राहुल अब वो 'छोटा बच्चा जान के हम को न बहलाना रे..'  वाले राहुल नहीं रहे, जैसा कि प्रचारित किया गया. सूत्रों के अनुसार कमलनाथ केवल कांग्रेस में एक गुट विशेष को चुनाव तक साधने के लिए आगे लाये गए हैं, असल में राहुल जनता की पसंद ज्योतिरादित्य को प्रदेश की कमान मुख्यमंत्री के रूप में देने का निर्णय ले चुके हैं. इसकी घोषणा समय पर की जायेगी. यह बात सभी जान भी रहे हैं, लेकिन कर भी क्या सकते हैं. क्योंकि राहुल, अब वो राहुल नहीं रहे, जिसे छोटा बच्चा जान के.. बहलाया जा सके. 

janjagran.net से साभार 




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc