काश समझ पाते हम, भोग्या की पीड़ा ...



Image result for rape

कोहरा
          
          घना है 

           ये समय है           
           प्रतिक्रिया को दबाने का 
           अंतिम राय  
           तक ना पहुँचने का
           सब्र का समय है ये।।

           मुंसिफ़ और क़ातिल
           अन्योन्य रूप से बदल सकते हैं
           बदल सकती है
           स्थापित धारणा
           सत्यापित निष्ठा
           स्वीकृत व्याख्या
           उठी हुयी उँगली 
           चढ़ी हुयी त्योरी
           और झुकी हुयी निगाह भी।।

           ऐसे में
           हम अपनी हथेली पर हथेली को           
           अदल बदल कर सकते हैं।।

           काश••!!
           बदल पाती
           वो निष्ठुर घड़ी
           और
           पल पल बदलते हम
           समझ पाते
           भोग्या की पीड़ा...


                          @ चन्द्रशेखर श्रीवास्तव    

              




Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc