मंत्री गोपाल भार्गव ने आरक्षण को देश को कमजोर करने वाला बताया, कहा 'प्रतिभा के आधार पर हो आरक्षण'


MP : बीजेपी मंत्री बोले, 'हर पार्टी ब्राह्मणोंका समर्थन चाहती है पर देना कुछ नहीं चाहती'

'हर पार्टी ब्राह्मणों का समर्थन चाहती है, पर देना कुछ नहीं चाहती' -मंत्री गोपाल 
आरक्षण पर एकमत नहीं है सरकार 

''जहाँ एक ओर सरकार दलित वोट बैंक को देखते हुए साफ़ साफ़ कुछ नहीं कह रही है, बस यही कहती है कि आरक्षण ख़त्म नहीं होगा, लेकिन वहीं दुसरी ओर उसके अपने लोग अक्सर यह जताते रहते हैं कि पार्टी आरक्षण के पक्ष में नहीं है, यह बात अलग है कि वह आरक्षण ख़त्म नहीं कर पा रही. इससे आरक्षित वर्ग पार्टी को संदेह की नजर से देख रहा है.'' 

नरसिंहपुर में परशुराम जयंती के मौके पर आज रविवार को ब्राह्मण समाज के सम्मलेन में मंत्री गोपाल भार्गव ने अपनी ही सरकार की नीतियों पर प्रश्न खड़े कर दिए. श्री भार्गव ने अपने संबोधन के दौरान आरक्षण पर बात करते हुए आरक्षण को देश को कमजोर करने वाला बताया. मंत्री श्री भार्गव ने प्रतिभा के आधार पर आरक्षण की वकालत पर जोर देते हुए कहा कि जब 40% वाले को 90% वाले से पहले स्थान दिया जाता है तो देश पिछड़ने लगता है, जो राष्ट्र के लिए घातक है. ये ब्राह्मण का नहीं बल्कि प्रतिभा का अपमान है.

उन्होंने आगे कहा कि जब देश आजाद हुआ था तब एक चौथाई संसद-विधायक कर्मचारी अधिकारी हमारे समाज के हुआ करते थे. अब मात्र 10 प्रतिशत रह गए हैं. और अब इससे भी कम होते जा रहे हैं. इसका कारण पहले नीति थी, अब अनीति है. श्री भार्गव ने कहा कि हर पार्टी ब्राह्मण का समर्थन तो चाहती है पर उसे देना कुछ नहीं चाहती है. हम आज एक बात बैंक बनकर रह गए हैं जैसे पहले दूसरी जातियां हुआ करती थींं, पर वे सभी सरकार से कुछ न कुछ मांग चुकी हैं, लेकिन ब्राह्मण ने ऐसी ओछी बात कभी की ही नहीं. 

परशराम जयंती के बहाने नरसिंहपुर में आयोजित ब्राम्हण समागम को हाल ही में दलितों द्वारा किए गए भारत बंद के मद्देनजर खासा महत्वपूर्ण माना जा रहा है. ब्राम्हण समागम में शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद की अगुवाई में देश भर से ब्राहमण जुटे और समाज के राजनेताओं का भी जमावड़ा लगा, जिसमे शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती के साथ अखलेश्वरनन्द महाराज, अमृतानंद, राजराजेश्वरानंद गिरि, कैविनेट मंत्री गोपाल भार्गव, सुरेश पचौरी, विधायक संजय शर्मा के नाम शामिल हैं.  


चिराग पासवान बोले, समृद्ध दलितों को अब आरक्षण का लाभ उठाना बंद कर देना चाहिये

गरीब सवर्णो को भी 10 या 12 प्रतिशत आरक्षण मिले -केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान
उल्लेखनीय है कि जहाँ एक ओर सरकार दलित वोट बैंक को देखते हुए साफ़ साफ़ कुछ नहीं कह रही है, बस यही कहती है कि आरक्षण ख़त्म नहीं होगा, लेकिन वहीं दुसरी ओर उसके अपने लोग अक्सर यह जताते रहते हैं कि पार्टी आरक्षण के पक्ष में नहीं है, यह बात अलग है कि वह आरक्षण ख़त्म नहीं कर पा रही. इससे आरक्षित वर्ग पार्टी को संदेह की नजर से देख रहा है. 

खुशहाल दलितों को भी आरक्षण का लाभ उठाना बंद कर देना चाहिए -चिराग पासवान
यह भी उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार में शामिल और लोक जनशक्ति पार्टी के प्रमुख और केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि गरीब सवर्णों को भी आरक्षण का फायदा मिलना चाहिए. उन्होंने कहा हम चाहते हैं कि गरीब सवर्णो को भी 10 या 12 प्रतिशत आरक्षण मिले. तो वहीं उनके पुत्र और लोक जनशक्ति पार्टी के ही नेता चिराग पासवान का कहना है कि आर्थिक रूप से खुशहाल दलितों को भी आरक्षण का लाभ उठाना बंद कर देना चाहिए.





Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc