आत्मदाह करने को मजबूर हुआ कांग्रेस विधायक


''एक जमाना वह भी था जब उत्तराखंड की गंगा, गोला, कोसी, काली और गोरी नदियों में धामी के नाम का डंका बजता था। हरीश रावत सरकार में कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त इस विधायक को परेशानी इस बात से हो रही है कि सरकार उनकी सुन नहीं रही और उनके गांव मदकोट में अवैध खनन जमकर हो रहा है।''

आप जानते हैं पिथौरागढ़ जनपद के सीमांत विधानसभा क्षेत्र धारचूला के कांग्रेस विधायक हरीश धामी इन दिनों उत्तराखंड की भाजपा सरकार से सहमे - सहमे से हैं। वह आजकल अपने गांव मदकोट में गोरी नदी में हो रहे अवैध खनन से बहुत परेशान है। एक जमाना वह भी था जब उत्तराखंड की गंगा, गोला, कोसी, काली और गोरी नदियों में धामी के नाम का डंका बजता था। हरीश रावत सरकार में कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त इस विधायक को परेशानी इस बात से हो रही है कि सरकार उनकी सुन नहीं रही और उनके गांव मदकोट में अवैध खनन जमकर हो रहा है । 

सुनने में तो यह भी आ रहा है कि हरीश धामी की एक पोकलैंड और एक JCB पुलिस ने अवैध खनन के आरोप में जब्त भी कर ली हैं। फिलहाल हरीश धामी चाहते हैं कि उनका काम बंद हो चुका है तो भाजपा के उन खनन माफियाओं का भी काम बंद होना चाहिए, जो गोरी नदी को JCB और पोकलैंड चला कर छलनी कर रहे है। मजबूरन बेचारे विधायक को अब मुख्यमंत्री के सामने आत्मदाह करने की घोषणा करनी पड़ी है। शायद इससे सरकार का दिल पसीज जाए और एक विधायक जो आजकल बेरोजगार है, उसको गोरी नदी में रोजगार चलाने का अवसर मिल जाए.....
@ आकाश नागर 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc