साधुओं से सौदेबाजी ने साबित किया ''नर्मदा घोटाला हुआ है और तगड़ा हुआ है''




"कम्प्यूटर बाबा" ने राज्यमंत्री का दर्जा मिलते ही "नर्मदा घोटाला रथ यात्रा"रद्द कर दी. इसका सीधा सीधा मतलब है कि नर्मदा घोटाला हुआ है और तगड़ा हुआ है. अब जनता पूछ रही है मां नर्मदा किनारे के 6 करोड़ 67 लाख पेड़ों की कोई खोजखबर अब नहीं होगी क्या?

मध्यप्रदेश में लोगों ने विश्व में जन-सहभागिता और नदी संरक्षण का अद्वितीय उदाहरण पेश करते हुए सिर्फ 12 घंटे में ही 6.6 करोड़ पौधे लगाकर एक नया रिकॉर्ड बनाने का दावा किया गया था. 2 जुलाई 2016 को नर्मदा नदी के किनारे ये सभी पौधे लगाए गए. पौधे लगाने का काम सुबह सात बजे शुरू हुआ था और शाम सात बजे ही यह अभियान समाप्त हो गया. बताया जाता है कि इस काम में लगभग 15 लाख लोगों ने हिस्सा लिया था. नर्मदा नदी के किनारे बसने वाले सभी 24 जिलों में लोगों ने पौधे रोपे गए थे.  

उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश सरकार ने एक दिन में 6 करोड़ 67 लाख 50 हजार पौधों को रोपने का लक्ष्य रखा था. इसे ही मान कर लगाए जाना मान लिया गया, लगाए गए पौधों का वास्तविक आकलन आज तक नहीं हो सका है. बाबा इसे लेकर आन्दोलन करने वाले थे, लेकिन माना जा रहा है कि मंत्री पद से नबाज कर खरीद लिया गया....

यह भी पढ़ें -
सौदागर निकले बाबा






Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc