जिनके कन्धों पर सुरक्षा का जिम्मा था, तेजी से नौकरी छोड़ रहे हैं

''जिनके कन्धों पर देश की सुरक्षा का जिम्मा था, वह अब नौकरी छोड़ रहे हैं. ऐसा बदइंतजाम के चलते हो रहा है. हालांकि सरकार ने इसे लेकर चिंता जताई है, लेकिन तमाम प्रयासों के बावजूद जवानों के नौकरी छोड़ने का सिलसिला नहीं रोक सकी है.''


Image result for असम राइफल्स
प्रतीक चित्र सौजन्य गूगल 

नौकरी छोड़ने वाले केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों और असम राइफल्स के अधिकारियों और जवानों की संख्या वर्ष 2015 में 3,425 थी, जो वर्ष 2017 में  बढ़कर 14,587 हो गई. यह नौकरी छोड़ने वाले अर्धसैनिक बलों के अधिकारियों और जवानों की संख्या में लगभग 500% की वृद्धि है. राज्यसभा में पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में गृह मंत्रालय ने यह जानकारी दी. 

केंद्रीय सुरक्षाबलों के जवानों के इतनी बड़ी संख्या में नौकरी छोड़ने के पीछे प्रमुख कारण तनाव, समुचित आराम न मिलना, बुनियादी सुख- सुविधाएं नहीं मिलने सहित उपेक्षा बड़ा कारण के रूप में सामने आई है. 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc