मुंडन के बाद भी नहीं सुलझी समस्या, सरकार कर रही धोखे का प्रयास, शिक्षक फिर मैदान में

केश बलिदान भी नहीं कर सका असर,  शिक्षक फिर मैदान में 

''जो ख़बरें आ रही हैं, उनके अनुसार सरकार चुनाव से पहले संविलियन मुश्किल बता कर टालने का प्रयास कर रही है. सरकार द्वारा सीधी भाषा में उनके साथ धोखा का प्रयास किया जा रहा है.''

मुंडन कराने के बाद भी शिक्षकों की समस्या का निराकरण नहीं हुआ है. आज भोपाल में श्री राम मंदिर में अध्यापक संघर्ष समिति की संचालन समिति की महत्वपूर्ण बैठक हुई. बैठक में यह बात सामने आई कि सरकार ने चुनाव को दृष्टिगत रखते हुए घोषणा कर दी है, लेकिन जो ख़बरें आ रही हैं, उनके अनुसार वह चुनाव से पहले संविलियन मुश्किल बता कर टालने का प्रयास कर रही है. 

ऐसे में अध्यापक संघर्ष समिति ने निर्णय लिया है कि सरकार पर दवाब बनाने के लिए फिर से मैदान में उतरा जाए. इसके तहत 22 फरवरी को अपनी मांगों को लेकर जिले में ज्ञापन दिया जाएगा. 25 फरवरी को छिंदवाड़ा में कमलनाथ के मुख्य आतिथ्य में कार्यक्रम होगा. 1 मई को मजदूर दिवस पर भोपाल में बड़ा कार्यक्रम किया जाकर सरकार के समक्ष ध्यान आकृष्ट किया जाएगा. कुल मिलाकर अध्यापकों को समझ आ गया है कि सरकार द्वारा सीधी भाषा में उनके साथ धोखा का प्रयास किया जा रहा है. 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc