खाकी वर्दी भी सरकार के खिलाफ, 'समस्याओं पर गौर नहीं तो BJP को वोट नहीं', एकजुट होने लिया सोशल मीडिया का सहारा



सोशल मीडिया के सहारे खाकी वर्दी वालों ने भी सरकार को घेरने की योजना बना ली है. व्हाटसएप के जरिये एक मैसेज वायरल हो रहा है, जिसमें पुलिस ने भी शिवराज सरकार को चेतावनी दे दी है कि यदि उनकी मांगों समस्याओं पर गौर नहीं किया गया तो वह शिवराज सरकार को वोट नहीं करेंगे. 

बताया जा रहा है कि आईपीएस/एसपीएस अधिकारी भी इस मुहिम में साथ दे रहे हैं. इनका मानना है कि पुलिस के साथ बाकी नाइंसाफी हो रही है. जरुरत के समय छुट्टी नहीं मिलती तो वीआईपी तैनाती पर उनके साथ गलत बर्ताव होता है. पुलिस के परिजनों को यह मैसेज फैलाया जा रहा है कि BJP को वोट नहीं देना है. प्रदेश में सवा लाख पुलिस है. इस हिसाब से लगभग 5-6 लाख का बड़ा वोट बैंक उनके पास है, जो कि एकजुट हो रहा है. 

मैसेज में जिन मांगों की बात की जा रही है उनमें प्रमुख है - 
ग्रेड पे, भोजन भत्ता 650 से बढ़ाकर 3050 किया जाए. 
स्थाई भत्ता 150 से बढ़ाकर 4000 किया जाए.
मैसेज में बताया गया है कि विशेष भत्ता 18 रुपये पिछले 12 साल से चला आ रहा है इसे बढाकर मूल वेतन का 12 फीसदी किया जाए. 
वर्दी धुलाई भत्ता इस महंगाई के जमाने में मात्र 60 रुपये है, इसे बढ़ाकर 1200 रुपये किया जाए. 
साथ ही यूनियन बनाने की छूट की बात की जा रही है. मैसेज में बताया गया है यूपी/बिहार में यह छूट मिली हुई है. 

इधर आई टी इंटेलीजेंस मकरंद देउस्कर का कहना है कि पुलिस कल्याण से जुड़े कई प्रस्ताव सरकार के पास विचाराधीन है. उन्होंने सोशल मीडिया पर चल रहे मैसेज पर संशय जताया है. 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc