योगी सरकार ने हटाया आरक्षण, RSS के इशारे पर चली कैंची



उत्तरप्रदेश की योगी सरकार ने आरक्षण के संबंध में आज एक बड़ा फैसला लेते हुए निजी मेडिकल कॉलेजों के पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स में जातिगत आरक्षण कोटे को खत्म कर दिया है.

फैसले के आते ही यूपी के प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में एसटी, एससी और ओबीसी वर्ग को आरक्षण कोटे से प्रवेश मिलने में बाधा होगी. सरकारी कॉलेजों में एससी-एसटी और ओबीसी वर्ग को आरक्षण देने का प्रावधान पर कोई फैसला नहीं लिया गया है. 
भारतीय संविधान के अनुसार सरकारी कॉलेजों में एससी-एसटी और ओबीसी वर्ग को आरक्षण देने का प्रावधान है, जबकि प्राइवेट और अल्पसंख्यक शिक्षण संस्थानों में आरक्षण कोटा किसी भी प्रकार से बाध्यकारी नहीं है.
पिछले एक दशक से पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव द्वारा सरकारी कॉलेजों की तर्ज पर प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों के कोर्स में भी एससी, एसटी और ओबीसी कोटे पर आरक्षण को लागू कर दिया था, जिसे अब योगी सरकार ने प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में आरक्षण सिस्टम के फैसले को पूर्णतयः रद्द कर दिया है.
फैसले के आते ही विरोध के स्वर उठने लगे हैं. योगी सरकार के इस फैसले को आरएसएस के आरक्षण विरोधी बयानों से भी जोड़कर देखा जा रहा है. कहा जा रहा है कि आरएसएस दलितों और पिछड़ों को मिलने वाला आरक्षण खत्म करना चाहता है. इसे आरक्षण ख़त्म करने की दिशा में एक कदम माना जा रहा है. 
उल्लेखनीय है कि हाल में मध्यप्रदेश में भी आरक्षण पर कैंची चलाई गई है. मध्यप्रदेश में कुछ जातियों को आरक्षण से बाहर का रास्ता दिखाया गया है. दोनों ही राज्यों में भाजपा की सरकारें हैं. 
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc