सरकारी जमीन पर पेशाब करना शिक्षक को महंगा पड़ा, चालान के साथ कारण बताओ नोटिस

नोटिस दिखाते शिक्षक

''प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान कार्यक्रम के जरिए देश को साफ सुथरा बनाने का देशव्यापी जन जागरण कार्यक्रम चला रखा है मगर बिहार के दरभंगा में एक सरकारी कर्मचारी को क्या पता था कि प्रधानमंत्री के इस कार्यक्रम को ठेंगा दिखाना उसे इतना महंगा पड़ जाएगा कि उसकी नौकरी पर बन आएगी.''

दरअसल, सज्जन पासवान नाम के सरकारी शिक्षक बीते 13 जनवरी को बेनीपुर अनुमंडल कार्यालय के प्रांगण में ही खुद को हल्का करने लगे मगर उन्हें क्या पता था कि उनके इस कृत्य पर एक प्रशिक्षु आईएएस ऑफिसर की नजर पड़ जाएगी और फिर उनको ऑन स्पॉट उसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा.

मास्टर साहब जब अनुमंडल कार्यालय में पेशाब करने में व्यस्त थे तो उसी दौरान प्रशिक्षु आईएएस अधिकारी विजय प्रकाश मीणा जो बेनीपुर प्रखंड विकास अधिकारी सह अंचलाधिकारी है ने मास्टर साहब को सबक सिखाने का सोच लिया. शिक्षक साहब के वापस आते ही आईएएस अधिकारी ने सबसे पहले उन पर सरकारी जमीन पर पेशाब करने के लिए 200 रूपए का जुर्माना लगा दिया.



इतने से भी मन नहीं भरा तो आईएएस अधिकारी ने शिक्षक को सबक सिखाने के लिए कारण बताओ नोटिस भी जारी कर दिया और उनसे सरकारी जमीन पर पेशाब करने के लिए स्पष्टीकरण मांगा. नोटिस में शिक्षक सज्जन पासवान से कहा गया है कि वह अनुमंडल कार्यालय जैसे सार्वजनिक स्थल पर पेशाब करते हुए पाए गए थे और यह सरकार द्वारा चलाए जा रहे स्वच्छता अभियान के प्रतिकूल है. ऐसे में शिक्षक महोदय से स्पष्टीकरण मांगा गया है कि सार्वजनिक स्थल पर खुले में पेशाब करने के लिए उनके खिलाफ विभागीय कार्यवाही क्यों न की जाए?

गौरतलब है कि, आईएएस अधिकारी विजय प्रकाश मीणा ने जबसे अपना पदभार संभाला है उस वक्त से ही उन्होंने स्वच्छता को लेकर गंभीरता दिखाई है और क्षेत्र में साफ सफाई पर काफी बल दिया है. आईएएस अधिकारी ने लोगों से भी अपील की है कि वह स्वच्छ भारत मिशन को सफल बनाने के लिए अपना योगदान करें. 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc