नहर की जगह नदियाँ जोड़कर सिंचाई रकबा बढ़ाने का इतिहास रचेंगे -मुख्यमंत्री श्री चौहान



सीहोर | मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में सिंचित खेती का रकबा बढाकर साठ लाख हैक्टेयर किया जायेगा। अभी चालीस लाख हैक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई की जाती है। इसे और बढाने के लिये प्रदेश भर में योजनाऐं बनाई जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज सीहोर जिले के नसरूल्लागंज में भावांतर योजना, आरट़ीज़ीए़स य़ोजना से किसानों के खाते में राशि के अंतरण तथा अन्त्योदय मेले में किसानों को सम्बोधित कर रहे थे। भावांतर भुगतान योजना के अन्तर्गत सीहोर जिले के 55150 किसानों के खातों में 5710 करोड रू की राशि एक क्लिक के माध्यम से जमा की गयी है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा परंपरागत तरीके से नहरें न बनाकर नर्मदा का जल पार्वती नदी में डाला जायेगा। जहॉ से किसानों के खेतों तक पानी पहुंचाने की व्यवस्था की जायेगी। इसके लिये प्रशासकीय स्वीकृति भी दे दी गयी है। सिंचाई का रकवा बढाने के लिये नर्मदा को क्षिप्रा से जोडा गया है। पूरे प्रदेश में इस प्रकार से असिंचित क्षेत्रों में सिंचाई हेतु पानी पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है। अकेले सीहोर जिले की नसरूल्लागंज तहसील में 33 हजार अतिरिक्त हैक्टर में सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी। इसके लिये प्राक्कलन तैयार कर लिया गया है। मध्यप्रदेश में सिंचाई का रकबा बढाने का एक नया इतिहास लिखा जा रहा है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश की सरकार किसानों के कल्याण के लिये प्रतिबद्ध है। खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिऐं युवा कृषक उधमी योजना बनायी गयी है। ऐसे युवा जो उद्यानिकी उत्पादों पर आधारित उघोग खोलना चाहेंगे उन्हे ऋण उपलब्ध कराया जायेगा। यह योजना इसलिये बनाई गयी है ताकि किसान खेती से जुडे अन्य व्यवसायों में भी आगे आयें।

उपस्थित अपार जनसमुदाय को संबोधित करते हुए श्री चौहान ने कहा कि वे जनता के मुख्यमंत्री है। अपनी सुरक्षा की परवाह किये बिना वे जनता के बीच जाते है। समाज के सभी बर्गों की बात सुनते हैं तथा उनको हल करने का प्रयास करते है जनता उनके लिये सर्वोपरि है।

भांवातर भुगतान योजना की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जब यह योजना शुरू की गयी तब अनेक प्रकार की आलोचना की गयी थी। परन्तु सरकार को किसान की चिन्ता थी। अब इस योजना के क्रियान्वयन की प्रक्रिया समझने अन्य प्रदेशों के अधिकारी भी मप्र क़े दौरे पर आ रहे है। दिसम्बर माह तक का भावांतर योजना की राशि किसानों के खातों में जमा कर दी गयी है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में स्व-सहायता समूह बहुत अच्छा काम कर रहें है। उनके उत्पादों की मार्केटिंग के लिये वे स्वयं ब्रांड एम्बेसडर बनेंगे। स्वसहायता समूहों द्वारा तैयार की गयी वस्तुओं की मार्केटिंग की पुख्ता व्यवस्था की जाऐगी। अगले शिक्षा सत्र में स्कूली बच्चों को दी जाने वाली ड्रेस भी स्वसहायता समूहो से तैयार करवाई जायेगी। ताकि उनकी वित्तीय स्थिति अच्छी रहे। प्रदेश भर के स्वसहायता समूहो का सम्मेलन शीघ्र ही सीहोर में बुलाया जायेगा।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भांवातर भुगतान योजना के अन्तर्गत 55150 किसानों के खातों में 5710 करोड रू की राशि किसानों एक क्लिक के माध्यम से जमा की। सीहोर जिले में भावांतर भुगतान योजना के अन्तर्गत कृषि उपज सोयाबीन, मक्का, उडद, मूंग और तुअर का पंजीयन कराया गया। पंजीकृत किसानों की संख्या 74410 है। कार्यक्रम के पूर्व मुख्यमंत्री ने लोक निर्माण विभाग, मप्र ग़्रामीण सडक विकास प्रधिकरण, मंडी बोर्ड, पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग तथा जल संसाधन विभाग के 21360 करोड रू लागत के 11 कार्यो का शिलान्यास किया। उन्होने प्रतीक स्वरूप कुछ हितग्राहियों को भू अधिकार प्रमाण पत्र वितरित किये। नसरूल्लागंज राजस्व अनुभाग में 6752 हितग्राहियों को भू-अधिकार प्रमाण पत्र किये जायेगे। श्री चौहान ने नसरूल्लागंज से नीलकंठ मार्ग का लोकार्पण किया। 1015 किम़ी ल़म्बे इस मार्ग के निर्माण पर 22 करोड 55लाख रू की लागत आयी है।

इस अवसर पर जिले के प्रभारी मंत्री श्री रामपालसिंह, मार्कफेड के अध्यक्ष श्री रमाकांत भार्गव, वन विकास निगम अध्यक्ष श्री गुरूप्रसाद शर्मा, वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन अध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह राजपूत, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती उर्मिला मरेठा, सीहोर विधायक श्री सुदेश राय, प्रदेश भाजपा मंत्री श्री रधुनाथ भाटी, भाजपा जिलाध्यक्ष श्री सीताराम यादव सहित अन्य जनप्रतिनिधि, भोपाल संभागायुक्त श्री अजातशत्रु श्रीवास्तव, आईजी श्री जयदीप प्रसाद, डीआईजी श्री के बी शर्मा, कलेक्टर श्री तरूण कुमार पिथोडे, एसपी श्री सिद्धार्थ बहुगुणा सहित अन्य शासकीय सेवक औरय हजारों की संख्या में हितग्राही एवं स्थानीय जन उपस्थित थे।

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc