जम्बूरी मैदान में मातृशक्ति का मुंडन, जलते पुतलों को बचाने वाला प्रशासन हाथ बांधे अनर्थ देखता रहा





''मांग अपनी जगह है, पर दुःखद यह है कि जिस देश में नारी की पूजा की जाती हो, उसे शक्ति का प्रतीक माना जाता हो, वहाँ ऐसा होना दुर्भाग्यपूर्ण कार्य आज भोपाल के जम्बूरी मैदान में सम्पन्न हुआ. जिस देश में नेताओं के जलते पुतलों तक को बचाने का प्रयास प्रशासन करता है, वही प्रशासन जम्बूरी मैदान में हाथ बांधे अनर्थ होते देखता रहा. मातृशक्ति का मुंडन प्रदेश के गंभीर हालात बयां कर रहा है.''











भोपाल। आज शनिवार का दिन अध्यापक संवर्ग के लिए बहुत विशेष के रूप में रहेगा जब अपनी मांगों के लिए जो महिलायें बाल छोटे कराने में भी कई बार सोचती हैं, उन ही महिला अध्यापिकाओं ने सरकार का तर्पण रूप में केश त्याग सरेआम मुंडन कराया.

मांग अपनी जगह है, पर दुःखद यह है कि जिस देश में नारी की पूजा की जाती हो, उसे शक्ति का प्रतीक माना जाता हो, वहाँ ऐसा होना दुर्भाग्यपूर्ण कार्य आज भोपाल के जम्बूरी मैदान में सम्पन्न हुआ. जिस देश में नेताओं के जलते पुतलों तक को बचाने का प्रयास प्रशासन करता है, वही प्रशासन जम्बूरी मैदान में हाथ बांधे अनर्थ होते देखता रहा. मातृशक्ति का मुंडन प्रदेश के गंभीर हालात बयां कर रहा है. 
भोपाल के जंबूरी मैदान में जब महिला अध्यापकों ने मुंडन कराना शुरू किया तो वहां मौजूद कई कई लोगों की आंखों में आंसू आ गए. इसी दौरान एक महिला और दो पुरुष अध्यापक गश खाकर गिर गए. तीनों को आनन-फानन में अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा. हालात यह थे कि मुंडन करने वाले नाई के भी हाथ कांप रहे थे.



आजाद अध्यापक संघ की प्रांताध्यक्ष शिल्पी शिवान ने ऐलान किया था कि यदि मप्र की भाजपा सरकार उनकी मांगें नहीं मानी तो वो 13 जनवरी को भोपाल पहुंचकर मुंडन कराएंगी. इसके बाद उन्होंने प्रदेश भर में अधिकार यात्रा का आयोजन किया. सरकार में बैठे भविष्यदृष्टाओं को कतई उम्मीद नहीं थीं कि महिला अध्यापक अपने ऐलान पर अमल भी करेंगी, लेकिन जैसे ही जंबूरी मैदान में मुंडन कार्यक्रम शुरू हुआ, सरकारी अफसरों के भी हाथ पांव फूल गए.


विरोध के दौरान करीब 120 अध्यापकों ने सरकार के विरोध में मुंडन कराया. विरोध के दौरान सुरेंद्र पटेल, आशीष दुबे और सारिका अग्रवाल बेहोश हो गए. इसके बावजूद जंबूरी मैदान में जुटी अध्यापकों की भीड़ के बीच मुंडन कराने को लेकर होड़ मची रही. जिन महिला टीचर्स ने मुंडन कराया उनमें प्रांत अध्यक्ष शिल्पी सिवान, रेणु सागर, अर्चना शर्मा और सीमा छीरसागर शामिल हैं.


Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc