टूट गई दोस्ती, BJP-शिवसेना, अब नदी के दो किनारे



''अब तक शिवसेना केंद्र की मोदी सरकार, यहां तक कि राज्य की फडणवीस सरकार की भी खासी आलोचक रही। नोटबंदी, जीएसटी जैसे केंद्र सरकार के फैसलों से लेकर हर उस मुद्दे पर शिवसेना अपने सहयोगी पर हमलावर रही, जिसके जरिए विरोधी पार्टियों ने बीजेपी को घेरने की कोशिश की, लेकिन हाल में हार्दिक पटेल से नजदीकी के बाद साफ़ हो गया था कि अब बीजेपी शिवसेना की दोस्ती को टूटने से कोई नहीं बचा सकता''

बीजेपी और शिवसेना के बीच काफी वक्त से चल रही तल्खी का नतीजा आज मंगलवार को सामने आ ही गया। शिवसेना ने एनडीए गठबंधन से अलग होने का ऐलान कर दिया है। पार्टी ने कहा है कि वह 2019 का चुनाव अकेले ही लड़ेगी। इसके अलावा, विधानसभा चुनाव में भी अकेले ही उतरेगी। इस फैसले का महाराष्ट्र की राजनीति पर बड़ा असर पड़ने वाला है। महाराष्ट्र सरकार के अलावा बीएमसी में दोनों पार्टियां गठबंधन करके शासन चला रही हैं। 


हालांकि, लंबे वक्त से चली आ रही तल्खी को देखते हुए यह फैसला सामान्य ही माना जाएगा। शिवसेना केंद्र की मोदी सरकार, यहां तक कि राज्य की फडणवीस सरकार की खासी आलोचक रही है। नोटबंदी, जीएसटी जैसे केंद्र सरकार के फैसलों से लेकर हर उस मुद्दे पर शिवसेना अपने सहयोगी पर हमलावर रही, जिसके जरिए विरोधी पार्टियों ने बीजेपी को घेरने की कोशिश की। तल्खी इस हद तक बढ़ गई कि शिवसेना परंपरागत राजनीतिक विरोधी कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी की तारीफ करते नजर आई। बीएमसी के चुनाव भी इस तल्खी के माहौल में लड़े गए।

मामले में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस का कहना है कि ‘शिवसेना बहुत सी बातें बोल रही है, मैं उन पर अभी कुछ नहीं बोलना चाहता। अभी हम लोग सरकार में एक साथ हैं। बीजेपी और शिवसेना यह कार्यकाल पूरा करेगी।’

शिवसेना की ओर से इस बड़े फैसले का ऐलान वरिष्ठ नेता संजय राउत ने किया। महाराष्ट्र सरकार में बीजेपी और शिवसेना की गठबंधन के 288 विधायक हैं। इनमें 122 बीजेपी के, 63 शिवसेना और बाकी अन्य विधायक हैं। वहीं, कांग्रेस के 42, और एनसीपी के 41 विधायक हैं। अब बड़ा सवाल उठ रहा है कि क्या शिवसेना महाराष्ट्र सरकार और बीएमसी की सत्ता से भी अलग होगी? कुछ राजनीतिक जानकार यह भी मानते हैं कि यह शिवसेना की ओर से बीजेपी पर दबाव बनाने की रणनीति है। 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc