'मुख्यमंत्री जी बताएं इन्वेस्टर्स समिट से किसे कितना लाभ पहुंचा, ब्रांडिंग किसकी हुई और मप्र का कितना भला हुआ?' -अरूण यादव



भोपाल। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अरूण यादव ने मध्यप्रदेश में वर्ष 2007 के बाद से अब तक संपन्न विभिन्न आठ ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट, इन आयोजनों में हुए करोड़ों रूपयों के खर्च, देश और विदेशी निवेशकों से हुए हजारों एमओयू, स्थापित व फर्जी उद्योेगों की संख्या, नौजवानों को प्राप्त रोजगार, प्रदेश से दूरी बनाने वाले निवेशकों और फ्रेंड्स ऑफ एमपी को लेकर राज्य सरकार से श्वेत-पत्र जारी किये जाने की मांग की है, ताकि यह स्पष्ट हो सके कि ऐसी सभी इन्वेस्टर्स समिट में लाभ किन्हें पहुंचा, ब्रांडिंग किसकी हुई और मप्र का कितना भला हुआ?

श्री यादव ने प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान पर यह भी प्रहार किया कि उन्होंने संपन्न विगत दो समिटों में अपने संबोधनों में कहा था कि ‘‘मेरी सरकार की अभिलाषा है कि अब मप्र में ही अंबानी पैदा हों।’’ मुख्यमंत्री जी, अफसोस है कि मप्र में किसी गरीब का बेटा तो अंबानी नहीं बन पाया, किन्तु आपका बेटा कार्तिकेय सिंह चौहान जरूर अंबानी बनने की राह पर चल पड़ा है!

श्री यादव ने राज्य सरकार को वर्ष 2016 में संपन्न ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट का स्मरण कराते हुए कहा कि इस समिट में 2630 निवेश के प्रस्ताव सरकार के समक्ष आये थे, जिनमें कुल 5 लाख 62 हजार 847 करोड़ रू. के निवेश का आना संभावित था, सरकार इसमें कितना सफल हो पायी, उसमें से 104 प्रस्ताव फर्जी कैसे निकले, इसके पीछे क्या और किसकी साजिश थी, ऐसे फर्जी प्रस्तावों के माध्यम से निवेशकों के सामने सरकार की अपनी गलत ब्रांडिंग करने की साजिश थी या फिर कोई अन्य कारण, स्पष्ट होना चाहिए। 
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc