लोकप्रियता हो तो ऐसी, कलेक्टर अजय शर्मा, जिनसे लोग बिना काम के केवल मिलने आते हैं





''कोई काम नहीं फिर भी, डंडे के सहारे जनसुनवाई पहुंचा केवट, बजह जान कर हैरान रह जायेंगे आप'' 


मनुष्य किसी भी पद पर हो, जीवन में कितनी ही कामयाबी हासिल कर ले, किन्तु यदि उसमें संवेदनशीलता नहीं है, तो सब कुछ व्यर्थ है। पद धारण करने के बाद पदीय दायित्वों का निर्वहन एक चैलेन्ज भरा काम होता है। किन्तु यदि पक्षपात रहित एवं संवेदनशीलता के साथ किया जाय तो मुश्किलें अपने आप दूर हो जाती हैं। इसके बाद मिलती है यश, कीर्ति, लोकप्रियता। ऐसे ही कलेक्टर हैं अनूपपुर के श्री अजय शर्मा, जिनसे लोग बिना काम के केवल मिलने आते हैं. क्षेत्र में आम चर्चा है कि लोकप्रियता हो तो ऐसी.

कुशल प्रशासनिक क्षमता के धनी भी 
प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार आमजन की समस्याओं के निराकरण करने हेतु कलेक्ट्रेट सभागार में सदैव की भांति जिला स्तरीय अमले के साथ जनसुनवाई की जा रही थी। एक-एक करके लोग आ रहे थे, अपने आवेदन दे रहे थे, कलेक्टर अजय शर्मा संवंधित अधिकारियों के माध्यम से उनका निराकरण करा रहे थे या मोवाइल के माध्यम से निर्देश दे रहे थे। 

गाँव में गलियों में ,आम जन से उनकी भाषा में बात चीत 
अचानक एक आदमी जो लकवाग्रस्त था, अपनी पत्नी के साथ डंडे का सहारा लेकर जनसुनवाई में पहुंचा। उसकी दशा को देखकर दूर से ही कलेक्टर श्री शर्मा ने पूछा क्या समस्या है दादा। ग्राम बकेली जनपद पंचायत जैतहरी से आये भीमसेन केवट ने कहा कि हम किसी समस्या को लेकर नहीं आये, बल्कि केवल आपसे मिलने आया हूं। उन्होने फिर से पूछा किस कार्य के लिए मिलने आये हैं, तो उन्होने जवाब दिया कि गांव के लोगों एवं एक डाक्टर ने बताया है कि जिले में बहुत दयालु कलेक्टर हैं। बस उसी दिन से मेरे मन में आपसे मिलने की इच्छा थी। आज आपसे मिल लिया तो इच्छा पूरी हो गयी। अन्य अधिकारियों ने भी उनसे कार्य के संवंध में पूछा तो उन्होने एवं उनकी पत्नी श्यामवती ने यही बात कही।

स्टाफ के साथ बेहतर समन्वय, बराबरी का व्यवहार 
कलेक्टर श्री शर्मा ने वहां उपस्थित अधिकारियों को दादा को चाय पिलाने को कहा। यह कोई सामान्य घटना नहीं थी, बल्कि यह कलेक्टर की संवेदनशीलता का परिणाम था। उनके साथ कार्य करने वाले सभी शासकीय सेवक चाहे वे किसी भी पद में हो सदैव समानता एवं न्याय पाते हैं। उनकी सब पर समदृष्टि रहती है। उनकी  कार्य शैली में अनुशासन एवं संवेदनशीलता देखने को मिलती है, जिसने उन्हे लोकप्रिय बना दिया है। 


Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc