महिला कांग्रेस की प्रदेश महासचिव परिणीता राजे आप पार्टी में शामिल, कहा 'आम आदमी की लड़ाई आम आदमी पार्टी ही लड़ रही है'






भोपाल। आम आदमी पार्टी मध्यप्रदेश के संयोजक आलोक अग्रवाल आज दतिया पहुंचे। यहाँ क्षेत्र की प्रखर समाज सेवी, आम जन की आवाज को हमेशा बुलंद करने वाली एवं प्रदेश महिला कोंग्रेस की प्रदेश महासचिव परिणीता राजे ने आम आदमी पार्टी के प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल के हाथों से पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। साथ ही कांग्रेस किसान संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष और जिला कांग्रेस कमेटी के जिला महामंत्री राहुल देव सिंह ने भी पार्टी की सदस्यता प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल के हाथों से ग्रहण की। आम आदमी पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने वाले कुंवर राहुल देव सिंह कांग्रेस में किसान संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष थे। वे कांग्रेस व्यापार मंडल के दतिया क्षेत्र के अध्यक्ष भी थे। 




आलोक अग्रवाल ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा और कांग्रेस की सरकारों की नाकामी के कारण बुंदेलखंड हमेशा पिछड़ा रहा है, योजनाओं में आने वाले पैसे लाभार्थियों तक न पहुंच कर भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गए । इसलिए बुंदेलखंड की जनता के लिए जरूरी है इस लूट और भ्रष्टाचार की सत्ता को बदला जाए।

आम आदमी पार्टी की सदस्यता ग्रहण करते हुए परिणीता राजे ने कहा कि सिर्फ आम आदमी पार्टी ही आम आदमी की लड़ाई लड़ रही है, यहां चापलूसी नही प्रतिभा का सम्मान होता है, में वर्षों कांग्रेस में रही पर कभी सम्मान नही मिला, ना ही मुझे सेवा करने दी जा रही थी, इसलिए मैंने तय किया कि जो आम आदमी की लड़ाई लड़ेगा उसके साथ काम करूंगी, इसलिए पार्टी जॉइन करने का फैसला किया ।

अजमेर (राजस्थान) के मायो कॉलेज गल्र्स स्कूल से स्कूली शिक्षा हासिल करने वाली श्रीमती राजे ने दिल्ली विश्वविद्यालय के लेडी श्रीराम कॉलेज से स्नातक किया। इसके बाद उन्होंने नोएडा स्थित एमिटी यूनिवर्सिटी से स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल की। श्रीमती राजे ने एमिटी यूनिवर्सिटी के मनोविज्ञान विभाग में बतौर लेक्चरर भी काम किया। वे साल 2007 में बुंदेलखंड मुक्ति मोर्चा की महिला विंग की प्रदेश अध्यक्ष बनीं। इसके बाद 2008 में वे कांग्रेस से जुड़ीं। 

आम आदमी पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने से पहले वे महिला कांग्रेस की प्रवक्ता और प्रदेश महासचिव थीं। श्रीमती राजे के नाना कुंवर डॉ. बसंत नारायण सिंह 1952 से 1967 तक और फिर 1977 से 1984 तक बिहार विधानसभा के सदस्य रहे। 1975 से 77 के बीच डॉ. सिंह बिहार जन संघ के अध्यक्ष रहे। उन्होंने 1968 से 1971 के बीच बिहार सरकार में बतौर कैबिनेट मंत्री काम किया। श्रीमती राजे की नानी कुंवररानी विजय राजे पहली राज्यसभा (1952-1957) की सदस्य रहीं और इसके बाद 1957 से 1971 तक लगातार 15 साल लोकसभा की सांसद रहीं। 

श्रीमती राजे के चाचा किशन सिंह जू देव भी 1984 से 1989 तक सांसद रहे। उनके चचेरे भाई कुमार घनश्याम सिंह जू देव विधानसभा सदस्य रहे हैं। श्रीमती राजे के दादा कुमार जसवंत सिंह जू देव दतिया के अंतिम दीवान थे। उन्होंने हजारों एकड़ जमीन आम जनता के लिए दान की थी। उनके नाम पर गांव का नाम जसवंत पुर और अब जसवंत नगर रखा गया है। श्रीमती राजे के परदादा महाराजा गोविंद सिंह जूदेव दतिया के अंतिम शासक थे। 

जिला कार्यकर्ता सम्मेलन को प्रदेश संगठन सचिव हिमांशु कुलश्रेष्ठ, अमित भटनागर, लोकसभा प्रभारी दिलीप मिश्रा, जिला संयोजक राहुल देव सिंह ने भी संबोधित किया ।

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc