शैक्षणिक योग्यता ने तोड़ दिए युवाओं के 'पटवारी' बनने के सपने


पटवारी भर्ती में अब से पहले तक की भर्तियों में शैक्षणिक योग्यता हायर सेकेंडरी रही है. इस बार पहली बार पटवारी भर्ती में शैक्षणिक योग्यता परिवर्तित की जाकर स्नातक कर दी गई, जिससे बड़ी संख्या में बेरोजगार युवा जो पटवारी की नौकरी मिलने की उम्मीद पाले हुए थे, वह बाहर हो जाने से निराश हो गए हैं. 
कहा जा रहा है जब cpct के लिए दो वर्ष दिए जा रहे हैं तो स्नातक के लिए भी समय दिया जा सकता था. कहा जा रहा है केवल पटवारी बनने के लिये हजारो अभ्यर्थियों ने 12th के बाद DCA किये हैं, ये स्नातक योग्यता लाकर उनके साथ छलावा किया गया है. इससे बहुत सारे बेरोजगार युवाओं का हक़ मारा जा रहा है. माना जा रहा है कि पटवारी परीक्षा में योग्यता 12 वीं कर दिए जाने से लगभग 5-6 लाख बेरोजगार युवा परीक्षा से वंचित रह जायेंगे.
इसी के साथ पहली बार ऑनलाइन परीक्षा और व्यापम नया नाम 'प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड' की बेबसाईट के पहले पटवारी परीक्षा रूल बुक के सोशल मीडिया पर वायरल होने को लेकर भी चर्चाएँ हैं.
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc