प्रादेशिक कहानी और लघुकथा गोष्ठी में सराहे गए डॉ. अरविंद जैन के उपन्यास


भोपाल. आज मध्यप्रदेश लेखक संघ भोपाल के तत्वाधान में हिन्दी भवन में प्रादेशिक कहानी और लघुकथा गोष्ठी का आयोजन किया गया. आयोजन में विभिन्न जगह से साहित्यकार पहुंचे. कार्यक्रम में प्रादेशिक कहानी और लघुकथा पर चर्चा हुई.
इस अवसर पर डॉ. अरविंद जैन भोपाल द्वारा अपने उपन्यास आनन्द कही अनकही, चार इमली, चौपाल और चतुर्भुज मंचासीन साहित्यकारों को भेंट किये गए. डॉ अरविंद जैन के उपन्यास लेखन के प्रयास की प्रशंसा की गई.



Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

2 comments:

  1. Mere liye atyant gaurav ka samay raha jisme sabko ek saath bhet karne ka awsarmila

    ReplyDelete
  2. Mere liye atyant gaurav ka samay raha jisme sabko ek saath bhet karne ka awsarmila

    ReplyDelete

abc abc