पटाखे नहीं फूटेंगे, तब भी सबसे ज्यादा प्रदूषित होगी दिल्ली



दिल्ली से दिग्विजय चतुर्वेदी 

दीपावली के दिन दिल्ली के चारों ओर से हवा दिल्ली में नहीं घुस पायेगी, हवा भी माननीयों के आदेश का पालन करेगी, जी हॉ "जुगाड" वाले माननीयों ने जो दिल्ली मे पटाखों पर बैन लगाया है, उससे तो यही पता चलता है उस दिन विज्ञान के सारे नियम टूट जाएंगे, हवा का व्यवहार बदल जायेगा. जो विज्ञान के जानकार हैं, उनको तो पता होगा, लेकिन जो नहीं जानते वे जान लें कि हवा चलती कैसे है?

"हवा जो oxygen, nitrogen, carbon dioxide और अन्य कई gasvapours और dust particles का mixture है। जब पृथ्वी का कोई स्थान सूर्य के तापमान से गर्म होने लगता है, उस स्थान की वायु भी गर्म होने लगती है. तापमान बढने के कारण उस स्थान की वायु फैलती है, जिससे उसका घनत्व(density) कम हो जाता है, यानि गर्म हवा हलकी हो जाती है. हलकी होने के कारण हवा वायुमंडल में ऊपर उठने लगती है. 

परिणाम यह होता है कि उस क्षेत्र में हवा का दबाव कम हो जाता है. हवा के इस दबाव को संतुलित करने के लिए अधिक दबाव वाले ठंडे स्थानों से भारी हवा इस स्थान की ओर बहने लगती है." लेकिन माननीयों को ये कौन बताये कि जब दिल्ली के चारों पटाखे फूट रहे होंगें, तो प्रदूषित हवा सबसे पहले दिल्ली ही आयेगी. 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc