बिहार की उम्मीद पर खरे नहीं उतरे मोदी




पटना. सबको उम्मीद थी की पीएम पटना को केन्द्रीय विवि का दर्जा दे देंगे. एक समय जब पीएम ने पीयू को केन्द्रीय विवि से संबोधित किया तब विद्यार्थियों में जोश दिखा, लेकिन पीएम ने ओपचारिक रुप से कोई घोषणा नहीं की. वहीं पीएम ने पीयू के मंच से देश भर में विश्वविद्यालयों में कॉम्पीटीशन के लिए एक विशेष योजना का आरंभ करते हुए कहा कि पूरे देश से 20 यूनिवर्सीटीयों को एक विशेष योजना के तहत 10 हजार करोड़ की राशी दी जाएगी. उन्होने यह उम्मीद जताई की पटना विवि भी इसमें शामिल होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पटना विवि के शताब्‍दी समारोह में बतौर मुख्‍य अतिथि बोल रहे थे.

इससे पहले मुख्यमंत्री नीतीश ने अपनी यादें ताजा करते हुए कहा कि इस विश्वविद्यालय से मेरी गहरी यादें जुड़ी हैं. इसी यूनिवर्सिटी के इंजीनियरिंग कॉलेज में मुझे पढ़ने के लिए मेरे पिताजी ने मेरा एडमिशन कराया और मैं भी इसका छात्र बना. मेरे पिताजी की दिली ख्वाहिश थी कि मैं इंजीनियर बनूं.
उन्होंने कहा कि उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार शिक्षा की गुणवत्ता की क्षेत्र में अच्छा काम कर रहा है. पीयू के छात्र आज देश के महत्वपूर्ण पदों पर हैं. उन्होंने पीयू को केंद्रीय विश्वविद्यालय देने की प्रार्थना की. उन्होंने कहा कि बिहार के लोग आप(पीएम) की तरफ आशा की नजरों से देख रहे हैं, लेकिन इस बात का पी एम पर कोई असर नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि केंद्रीय विश्वविद्यालय बहुत पहले की बात हो गई। उन्होंनेे देश 20 विश्वविद्यालयों को विश्वस्तरीय बनाने की बात कही। कहा जा रहा है पी यू के छात्रों को बहुत उम्मीद थी, लेकिन वह पूरी नहीं हो सकी. 

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc