वो बिचारा बैंक वाला

- अमित कुमार वर्मा, राजकोट 





 बैंक में घुसते ही वो इधर उधर नजर दौडाने लगाएक सीधा सा दिखने वाला लड़का जो बैंक ऑफिसर था उसके पास गया और अपना ATM कार्ड मेज पर पटकते हुए गुस्से से बोला, " मेरा कार्ड क्यों नहीं चल रहा?" ऑफिसर ने सिर उठाकर उसको देखा और बोला " ATM का डिपार्टमेंट सामने है। उधर पूछ लीजिए।" 
उसका पारा और बढ़ गया। " मैं तुम्हारे बैंक में आया हूँ , तुम ही बताओ कि मेरा कार्ड क्यो नहीं चल रहा? मैं यहाँ से किसी और डिपार्टमेंट में नही जाऊँगा।"
" ओके, क्या प्रॉब्लम है?"

" प्रॉब्लम तुम बताओ, मेरे कार्ड में क्या प्रॉब्लम है?"

" मुझे कैसे पता चलेगा कि क्या प्रॉब्लम है? ATM मशीन में क्या संदेश लिख के आ रहा है? कम से कम ये तो बताइए।"
" मैंने नही देखा, बस तुम ये बताओ मेरा कार्ड क्यो नही चल रहा?"
तभी एक अन्य ग्राहक ने टोका " मैं इतनी देर से खड़ा हूँ , दिखाई नही देता? मैं तुम्हारी शिकायत करूँगा। RTI लगाऊँगा तब तुमको पता चलेगा कि सर्विस कैसे देते है। तुम सारे बैंक वाले एक जैसे हो, सब मुफ्त में AC में बैठ के आराम करते हैं।"
" सर, पहले एक ग्राहक निपट जाए तब आप पर भी ध्यान दे पाऊँगा"
अब पहला ग्राहक झल्लाया " मेरा कार्ड क्यो नही चल रहा है? जल्दी बताओ, कहाँ है तुम्हारा मैनेजर, अभी शिकायत करता हूँ तुम्हारी।"
वो बैंक ऑफिसर अपनी जगह से उठा और उसका ATM कार्ड लेकर उसको बगल के ATM मशीन के पास ले गया और उसको कार्ड लगाने को बोला। उसने कार्ड लगाया और दिखाया " ये देखो नहीं चल रहा, सर्विस ही खराब है तुम्हारे बैंक की।"
" सर, कार्ड सीधा लगाइये, अपने गलत साइड से लगाया है।" 
ATM से पैसे निकल आये। वो अकड़ में अपने पैसे गिनता हुआ चला गया।
बैंक ऑफिसर अपने काउंटर पर आया तो मैनेजर ने डांटते हुए पूछा " ये कोई वक्त है बाहर घूमने का? ये ग्राहक कितनी देर से तुम्हारा इंतजार कर रहे है? 
" सर एक ATM की प्रॉब्लम वाला ग्राहक आया था तो....."
" चुप करो, ATM तुम्हारा डिपार्टमेंट नही है। बस बाहर घूमने का बहाना चाहिए।"
बेचारा बैंक ऑफिसर सिर झुकाकर अपने नए ग्राहक को सेवा देने लगा।
(सत्य घटना पर आधारित)
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc