उनकीTRPकेलिए चिलचिलाती धूप में नंगे पैर खड़े रहे बच्चे

 ऐसे कैसे बच पायेगा बचपन   


(विदिशा से भरत राजपूत की रिपोर्ट)

विदिशा. "बचपन बचाओ" कार्यक्रम के लिए ओलंपस हाई स्कूल में मासूम बच्चियों को दो घंटे धूप में खड़ा करवाया गया. वह धूप में नंगे पैर खड़े रहे और आयोजक अतिथि का इन्तजार करते रहे. कार्यक्रम चाहे "बचपन बचाओ" हो या फिर "नदी बचाओ" छोटे छोटे बच्चों को खुद को बचाने धूप हो या सर्दी खड़े होना ही पड़ेगा. "नदी बचाओ आंदोलन" में जहाँ वात्सल्य स्कूल के बच्चों को आगे किया गया था, तो "बचपन बचाओ" में ओलंपस हाई स्कूल ने प्रतिद्वंदिता के चलते इन मासूम बच्चियों को खड़ा कर
देवी स्वरूप मासूम बच्चियों के
पैर में जलन
अलग ही समझ में आ रही है
.
दिया.  
भीख मांगने वाले, मजदूरी करने वाले बच्चों का बचपन बचाने की बात करने वाले, व्हीआईपी बच्चों का बचपन भी सुरक्षित नहीं कर पा रहे हैं. जनता में सवाल है कि प्रशासन खुद क्यों अपने विभाग के कर्मचारियों को स्वागत में खड़ा नहीं करता. जनप्रतिनिधि क्यों अपने कार्यकर्ताओं को भरी दुपहरी में खड़ा नहीं करते. क्या यह मासूम ही टीआरपी बढ़ाने के लिए बने हैं.

Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc