श्रमिक : रूह से आजाद पर...

श्रमिक दिवस पर विशेष 


@सुरेखा अग्रवाल, लखनऊ 

                                           हाँ मैं श्रमिक हूँ
                                  घर से बेघर हूँ
                                  रूह से आजाद पर
                                  अपने काम में खुश हूँ 
                                  माना नहीं मनाता 
                                  नहीं मैं छुट्टियाँ
                                  इंतजार में रहती
                                  मेरी कई चिट्ठियाँ
                                  पसीने से तर बतर
                                  दिन मेरे
                                  थक के चूर रातें मेरी
                                  स्वप्न में जिन्दा मेरे ख्वाब
                                  अक्सर तन्हा मेरे ख्याल
                                  दिवाली, होली बस थोडा आराम
                                  इसलिए शायद मेरा श्रमिक नाम
                                  रोज सुबह शाम भगा दौड़ी
                                  मेहनत से चलती मेरी गाडी
                                  सुबह शाम बस काम ही काम
                                  इसलिए शायद मेरा श्रमिक  नाम
Share on Google Plus

News Digital India 18

पाठकों के सुझाव सदा हमारे लिए महत्वपूर्ण है ..

0 comments:

Post a Comment

abc abc